कलेक्टर ने दिए शिकायतों के त्वरित निराकरण के निर्देश, औचक निरीक्षण करने के लिए कहा

सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार। जिला कलेक्टर राजीव रंजन मीणा ने कहा कि प्राप्त शिकायतों का निराकरण सभी विभागीय अधिकारी समय सीमा में किया जाना सुनिश्चित करें। खाद्यान्न की कालाबाजारी करने वालों के विरूद्ध अभियान चलाकर कठोर कार्रवाई की जाए। साथ ही समय समय पर राशन की दुकानों का औचक निरीक्षण कर स्टाक पंजी एवं आवंटन, वितरण आदि की जांच भी की जाए। यदि राशन विक्रेता द्वारा किसी भी प्रकार खाद्यान्न मे गड़बड़ी की गई है तो संबंधित के विरूद्ध तत्काल कार्रवाई हो। ये निर्देश कलेक्ट्रेट सभागार मे आयोजित समय सीमा बैठक के दौरान कलेक्टर राजीव रंजन मीणा द्वारा संबंधित अधिकारियो को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंह के माध्यम से दिये गए।

कलेक्टर द्वारा समय सीमा मे निराकृत किये जाने वाले आवेदन पंत्रो के निराकरण की स्थिति के संबंध मे विभागवार जानकारी ली गई। उन्होने प्रसूति सहायता राशि के लंबित प्रकरणों पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि जब महिलाओं का संस्थागत प्रसव कराया जा रहा है, प्रसव के दौरान संबंधित महिला या उसके परिजनों के द्वारा चिकित्सालय मे भर्ती के समय सभी कागजात मुहैया करा दिये जाते है तो इसके बावजूद भी प्रसूति सहायता का लाभ समय से संबंधित हितग्राही को क्यों नहीं दिया जाता। उन्होने मुख्य स्वास्थ्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये की प्रसूति सहायता के जितने प्रकरण लंबित हैं, उनका निराकरण तीन दिन के अंदर किया जाना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने कहा कि शासन की जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पात्र हितग्राहियों को समय पर प्रदान न करने वाले अधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी। उन्होने महिला बाल विकास अधिकारी को निर्देश दिये कि आंगनवाड़ी केन्द्रों को प्राइवेट भवनों मे संचालित ना कराया जाए। इस माह के अंत तक शासकीय विद्यालय के भवनों मे आंगवाड़ी केन्द्र संचालित कराया जाना सुनिश्चित करें तथा पूर्व बैठक में दिये गये निर्देश जिसमें मॉडल रूप में विद्यालयो को आंगनवाड़ी  केंद्र बनाये जाने के लिए कहा गया था, इस संबंध मे संयुक्त रूप से डीपीओ, डीओ, डीपीसी अपना प्रस्ताव तैयार कर अवलोकन के लिए प्रस्तुत करें।

कलेक्टर ने पंचायत विभाग को निर्देश दिये कि प्रधानमंत्री आवास का निर्माण निर्धारित समय पर पूर्ण कराये जाये, मनरेगा, गरीब कल्याण योजना के तहत संचालित कार्य गुणवत्ता के साथ समय सीमा मे पूर्ण कराया जाए। खाद्य अधिकारी एवं नगर निगम के अधिकारियो को निर्देश दिये कि नवीन पात्रता पर्ची हेतु जिन हितग्राहियों की आधार सिडिंग शेष रह गई उसे एक सप्ताह के अंदर पूर्ण कराएं। पशुओं के टीकाकरण की प्रगति की जानकारी सहायक संचालक पशु चिकित्सा से प्राप्त करने के पश्चात निर्देश दिये कि निर्धारित लक्ष्य के टीकाकरण कार्य में लापरवाही बरतने वालों का सात दिन का वेतन काटा जाए।

कलेक्टर ने निर्देश दिया कि संबंधित विभाग के अधिकारी समय समय पर खाद वितरण कर रही समितियों का औचक निरीक्षण करें। किसानो को निर्धारित दर पर ही खाद का विक्रय किया जाए। कलेक्टर सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि जन प्रतिनिधियों से प्राप्त होने वाले पत्रों का समय से उत्तर दिया जाना सुनिश्चित करें। सीएम हेल्प लाइन में प्राप्त प्रकरणों का समय सीमा मे निराकरण करें। बैठक के दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी साकेत मालवीय, खाद्य अधिकारी बालेन्द्र शुक्ला, महिला बाल विकास अधिकारी प्रवेश मिश्रा, उप संचालक पशु चिकित्सा डॉ. डीपी तिवारी आदि उपस्थित रहे।

 

कलेक्टर के निर्देशों पर पानी फेर रहे अधिकारी

एक तरफ सिंगरौली कलेक्टर सरकार की योजनाओं को लागू करने और उसका पालन कराने की पूरी कोशिश कर रहे हैं लेकिन वही दूसरी तरफ देखा जाए तो बहुत से पशु चिकित्सालय में ताला लटकता रहता है या पशु चिकित्सक अस्पताल से गायब रहते है और प्राइवेट तौर पर पशु पालको से पैसे लेकर इलाज करते है वही खुटार पशु चिकित्सालय की बात की जाए तो यहाँ कौन डॉक्टर है कोई नही जानता क्योकि आज तक डॉक्टर अस्पताल में नजर ही नही आते वही हर गांव में पशुओं को महीनो से बीमारी फैली हुई है लेकिन आज तक गांव में टीकाकरण नही किया जा रहा है बहुत सी योजनाएं है जिनका फायदा लोगो को नही मिल पा रहा है

👉🏻अगले अंक में हम आपके सिंगरौली जिले के अन्य समस्याओं को करेंगे उजागर,प्रधानमंत्री आवास में धांधली,मुख्यमंत्री कन्या विवाह का हितग्राही को नही मिला लाभ