कोरोना वायरस से बचाव के लिए दो राज्यो के सीमावर्ती जिलो के बीच बनी रणनीति

सिंगरौली//राघवेन्द्र सिंह गहरवार
मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ राज्य के दोनो सीमावर्ती जिलो के कलेक्टरो द्वारा संयुक्त रूप से बैठक आयोजित कर कोरोना वायरस के संक्रमण से दोनो जिलो की जनता को सुरंक्षित रखने के लिए रणनीत बनाई गई| सिंगरौली कलेक्टर के.वी.एस चौधरी एवं सुरजपुर जिला कलेक्टर दीपक सोनी, पुलिस अधीक्षक सिंगरौली टी.के. विद्यार्थी, पुलिस अधीक्षक सुरजपुर राजेश कुकरेजा सहित दोनो सीमावर्ती जिलो के वरिष्ठ अधिकारियो द्वारा राज्य के सीमा पर स्थित नवाटोला छत्तीसगढ़ बार्डर में समन्वय बैठक आयोजित कर दोनो जिलो के कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षको के द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव हेतु किये जा रहे व्यवस्थाओ के संबंध में एक दूसरे से जानकारियो को साझा किया गया|

बैठक के दौरान एक दूसरे को अवगत कराया गया कि दूसरे राज्यो में फसे हुये मजदूरो की वापसी बड़ी संख्या मे हो रही है उनके स्वास्थ्य परीक्षण के साथ साथ उन्हे होमक्वारेनटाईन कराये जाने के संबंध एक दूसरे को अवगत कराया गया बैठक के दौरान निर्णय लिया गया कि रेड एवं ओरेंज जोन से आने वालो का प्रवेश दोनो जिलो मे प्रतिबंधित रहेगा।कोई भी बाहरी व्यक्ति मध्यप्रदेश से छत्तीसगढ़ तथा छतीसगढ़ से मध्यप्रदेश में अवैध रूप सें प्रवेश न करने पाये तथा कोई वैध पासधारी व्यक्ति यदि छत्तीसगढ़ के सुरजपुर से सिंगरौली आना चाहता है तो सीमा पर ही उसका स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाये। इसी तरह से सिंगरौली से सुरजपुर जाने वाले व्यक्ति की स्क्रनिंग सीमा पर किये जाने के पश्चात उसे जिले मे प्रवेश दिया जाये। तथा उस व्यक्ति के आने की सूचना से तत्काल दोनो जिलो के इस कार्य मे लगे अधिकारियो के बीच जानकारी साझा की जाये ताकि वह व्यक्ति जैसे ही अपने गनतव्य स्थान पर पहुचे उसका स्वास्थ्य परीक्षण कराकर उसे होम क्वारेनटाइन कराया जा सकें।

बैठक के दौरान निर्णय लिया गया कि एक जिले से जिले में आवश्यक वस्तुओ की सामग्री वा अन्य ट्रन्सपोटेशन मे किसी प्रकार की समस्या न हो दोनो राज्यो के मध्य मालवाहक वाहनो के अलावा अन्य वाहनो के परिचालन विधिवत अनुमति के बाद चालू हो। लंबी दूरी के मालवाहक वाहनो में एक चालक वा दो परिचालक एवं छोटी दूरी के वाहनो मे एक चालक वा एक परिचालक ही रहेगा। बार्डर पर इसकी चेकिंग सुनिश्चित की जाये। वही असमाजिक तत्वो पर तथा सोसल मीडिया के दुष्प्रचार पर रोक लागने के लिए दोनो जिलो के पुलिस अधीक्षक समय समय पर सुचनाओ का आदन प्रदान करते रहेगे।

बैठक के दौरान इस बात की चर्चा की गई कि अन्य प्रदेशो से आने वाले व्यक्ति बार्डर से न जाकर अवैध रूप से अन्य रास्तो से दोनो जिलो मे प्रवेश करते है इसी तरह से दोनो जिलो के सीमावर्ती गावो में निवास करने वाले व्यक्ति एक जिले से दूसरे जिले मे अपने रिश्तेदारो के यहा आते जाते है इन्हे रोकने के लिए तथा इसकी सूचना प्राप्त करने के लिए गाव स्तर पर जन जगरूकता अभियान चलाकर आम नागरिको जागरूक किया जये गांवों मे निवास करने वाले शासकीय, अर्द्धशासकीय कर्मचारी इनके आने जाने की सूचना तत्काल अपने निकटतम थाने या तहसील के अपने तहसीलदार, एसडीएम, या अन्य वरिष्ठ अधिकारी को अवगत कराये जिससे यैसे व्यक्तियो को तत्काल रोककर इनका स्वास्थ्य परीक्षण कराया जा सके बैठक के दौरान दोनो जिलो के कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षको के द्वारा बार्डर पर तैनात पुलिस के जवानो के साथ साथ राजस्व अमले के कर्मचारियो को प्रोत्साहित करते हुये कहा गया कि आपस मे समन्वय बनाकर सूचनाओ का आदन प्रदान करते रहे। बैठक के दौरान एक से दूसरे जिलो के अधिकारियो के मोबाईल नंम्बरो को भी साझा किया गया।

इस अवसर पर वनमण्डल अधिकारी सुरजपुर जे.आर भगत, एसडीएम माड़ा रवि मालवीय, एसडीएम भैयाथान प्रकाश राजपूत, जिला परिवहन अधिकारी अतुल असैया,सीएसपी विन्ध्यगर देवेश पाठक, एसडीओपी ओड़ंगी सुश्री मंजुलता,थाना प्रभारी बैढ़न अरूण पांडेय,थाना प्रभारी माड़ा अर्चना शर्मा,तहसीलदार माड़ा दिव्या सिंह, थाना प्रभारी चॉदनी शिवकुमार कुटे, चौकी प्रभारी शासन सहित सरपंच नवा टोला, सरपंच सपहा, सरपंच खलबहरा आदि उपस्थित रहे।