हरिकथा, मीलाद और चादरपोशी के साथ हुई “तानसेन समारोह” की पारंपरिक शुरूआत, शाम को अलंकरण समारोह के साथ होगा औपचारिक शुभारंभ

Avatar
Published on -
Tansen Samaroh 2023
Tansen Samaroh 2023 : भारतीय शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में देश के सर्वाधिक प्रतिष्ठापूर्ण महोत्सव “तानसेन समारोह” की आज रविवार 24 दिसंबर की सुबह पारंपरिक ढंग से शुरुआत हुई। ग्वालियर के हजीरा स्थित तानसेन समाधि स्थल पर शहनाई वादन, हरिकथा, मीलाद चादरपोशी और कव्वाली गायन के साथ पारंपरिक शुरुआत हुई।

Tansen Samaroh 2023

आपको बता दें कि सुर सम्राट तानसेन की स्मृति में आयोजित होने वाले तानसेन समारोह का इस साल 99वां वर्ष है। तानसेन समारोह का औपचारिक शुभारंभ आज शाम हजीरा स्थित तानसेन समाधि परिसर में ऐतिहासिक मानसिंह तोमर महल की थीम पर बने भव्य एवं आकर्षक मंच पर होगा। इसी मंच पर बैठकर देश और दुनिया के ब्रम्हनाद के शीर्षस्थ साधक सुर सम्राट तानसेन को स्वरांजलि अर्पित करेंगे।
रविवार की सुबह तानसेन समाधि स्थल पर परंपरागत ढंग से उस्ताद मजीद खां एवं साथियों ने रागमय शहनाई वादन किया। इसके बाद ढोलीबुआ महाराज नाथपंथी संत श्री सच्चिदानंद नाथ जी ने संगीतमय आध्यात्मिक प्रवचन देते हुए ईश्वर और मनुष्य के रिश्तों को उजागर किया।
Tansen Samaroh 2023
ढोली बुआ महाराज ने राग ” बैरागी” में तुलसीदास जी द्वारा रचित भजन प्रस्तुत किया। भजन के बोल थे ” भजन बिन तीनों पन बिगड़े” । उन्होंने प्रिय भजन “रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम” का गायन भी किया। इसके अलावा उन्होंने विभिन्न रागों में पिरोकर अन्य भजन भी गाये।
Tansen Samaroh 2023
ढोलीबुआ महाराज की हरिकथा के बाद मुस्लिम समुदाय से मौलाना इकबाल लश्कर कादिरी ने इस्लामी कायदे के अनुसार मीलाद शरीफ की तकरीर सुनाई। उन्होंने कहा सबसे बड़ी भक्ति मोहब्बत है। उनके द्वारा प्रस्तुत कलाम के बोल थे  ” तू ही जलवानुमा है मैं नहीं हूँ”। अंत में हजरत मौहम्मद गौस व तानसेन की मजार पर राज्य सरकार की ओर से सैयद जियाउल हसन सज्जदानशीन द्वारा परंपरागत ढंग से चादरपोशी की गई।
Tansen Samaroh 2023
इससे पहले जनाब फरीद खानूनी व जनाब भोलू झनकार  एवं उनके साथी कब्बाली गाते हुये चादर लेकर पहुंचे। कव्वाली के बोल थे ”खास दरबार-ए-मौहम्मद से ये आई चादर’। तानसेन समारोह के पारंपरिक शुभारंभ मौके पर जिला प्रशासन के अधिकारी और स्थानीय कलाकार और शहर के गणमान्य लोग भी मौजूद रहे।
ग्वालियर से अतुल सक्सेना की रिपोर्ट

About Author
Avatar

Ayushi Jain

मुझे यह कहने की ज़रूरत नहीं है कि अपने आसपास की चीज़ों, घटनाओं और लोगों के बारे में ताज़ा जानकारी रखना मनुष्य का सहज स्वभाव है। उसमें जिज्ञासा का भाव बहुत प्रबल होता है। यही जिज्ञासा समाचार और व्यापक अर्थ में पत्रकारिता का मूल तत्त्व है। मुझे गर्व है मैं एक पत्रकार हूं। मैं पत्रकारिता में 4 वर्षों से सक्रिय हूं। मुझे डिजिटल मीडिया से लेकर प्रिंट मीडिया तक का अनुभव है। मैं कॉपी राइटिंग, वेब कंटेंट राइटिंग, कंटेंट क्यूरेशन, और कॉपी टाइपिंग में कुशल हूं। मैं वास्तविक समय की खबरों को कवर करने और उन्हें प्रस्तुत करने में उत्कृष्ट। मैं दैनिक अपडेट, मनोरंजन और जीवनशैली से संबंधित विभिन्न विषयों पर लिखना जानती हूं। मैने माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से बीएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में ग्रेजुएशन किया है। वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन एमए विज्ञापन और जनसंपर्क में किया है।

Other Latest News