टीकमगढ़ में SDM और तहसीलदार पर दबंगई का आरोप, किसान से मारपीट, विधायक ने दी आंदोलन की चेतावनी

टीकमगढ़/आमिर खान

मधयप्रदेश में इन दिनों गेहूं खरीदी के चलते कई जिलों से भ्रष्टाचार की खबरें भी सामने आ रही हैं। ऐसे में टीकमगढ़ जिले में खरीदी केंद्र पर एसडीएम और तहसीलदार पर दबंगई के आरोप लग रहे हैं। आरोप है कि अजनोर समिति के नरोला नाका केंद्र पर एक किसान के साथ गाली गलौज करने के बाद मारपीट की गई। मारपीट का आरोप टीकमगढ़ एसडीएम मनोज प्रजापति और तहसीलदार अनिल तलैया पर लगा है। मामले ने इतना तूल पकड़ लिया है कि अब भाजपा विधायक राकेश गिरी ने सड़क पर उतरकर आंदोलन करने की चेतावनी दे दी है।

इन दोनों अधिकारियों पर आरोप है कि इन्होंने किसान के साथ अभद्रता की और फिर डंडों से उसकी पिटाई कर दी। मामले में अब भाजपा विधायक राकेश गिरी भी सामने आए हैं और उन्होंने कहा है की टीकमगढ़ जिले में कांग्रेस समर्थक अधिकारी जमे हैं, जो अब किसानों के साथ बर्बरतापूर्ण रवैया अपनाने लगे है। इन दोनों अधिकारियों ने किसान जगजीवन विश्वकर्मा के साथ मारपीट की है, मैं इसकी घोर निन्दा करता हूं। पूरे जिले में व्यापक भ्रष्टाचार पनप रहा है। अधिकारी गुंडागर्दी और उतारू हो गए हैं। इसकी शिकायत मुख्यमंत्री से लिखित में कर रहा हूं।

जानकारी के मुताबिक घटना मंगलवार शाम 4 बजे की है जब किसान जगजीवन अपना गेहूं बेचने अजनोर सोसायटी गए थे, तभी वहां टीकमगढ़ एसडीएम मनोज प्रजापति और तहसीलदार अनिल तलैया पहुंच गए। जहां यह अधिकारी किसानों के साथ अभद्र व्यवहार कर रहे थे जिसका विरोध जगजीवन ने कर दिया। फिर क्या था दोनों अधिकारी आग बबूला हो गए और उन्होंने किसान के साथ मारपीट कर दी। ये भी आरोप हे कि घटना के बाद जब किसान इसकी लिखित शिकायत करने बड़ागांव थाने पहुंचा तो वहां उनकी शिकायत दर्ज नहीं की गई। इसके बाद पूरे मामले पर अब भाजपा ने कमर कस ली है और इसकी लिखित शिकायत मुख्यमंत्री को लिखित तौर पर कर दी है। मामले की जानकारी लगने के बाद टीकमगढ़ विधानसभा के विधायक राकेश गिरी भी किसान के साथ खड़े हो गए और उन्होंने ईट से ईट बजाने की बात तक कह डाली है।