Fire Accident : SDM के सरकारी आवास में लगी आग, सामान जलकर हुआ खाक

एसडीएम ने बताया कि यह सरकारी घर काफी साल पुराना है। मैंने चपरासी को फोन करके शाम को घर की लाइट जलाने के लिए कहा था। घर की वायरिंग भी काफी खराब हो चुकी है, हालांकि शिफ्ट होने से पहले इस घर में काफी काम करवाया गया था। शायद शार्ट सर्किट होने के चलते घर में आग लगी है।

Sensational-case--Kalyugi-son-and-daughter-in-law-burn-mother-

उज्जैन,डेस्क रिपोर्ट। उज्जैन (ujjain) से सरकारी अधिकारी के आवास में आग लगने (Fire Accident) का मामला सामने आया है। 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद फायर ब्रिगेड की टीम (Fire Brigade Team) ने आग पर काबू पाया। इस अग्निकांड (Fire Accident) में करीब 2 लाख रुपए का नुकसान (loss) हुआ है। इस हादसे में किसी की भी जान को कोई हानि नहीं पहुंची है। अग्निकांड (Fire Accident) का यह पूरा मामला उज्जैन के तराना तहसील का है,जहां गुरुवार को तराना एसडीएम एकता जायसवाल (Tarana SDM Ekta Jaiswal) के सरकारी आवास (Government house) मे आग लग गई। आग इतनी भीषण थी कि फायर ब्रिगेड को बुझाने में करीब 2 घंटे की मशक्कत लगी।  सरकारी आवास में जब आग लगी थी उस वक्त एसडीएम एकता (SDM EKta) अपने बच्चों के साथ उज्जैन गई हुई थी।

इस पूरे मामले को लेकर एसडीएम एकता जयसवाल का कहना है कि वह किसी सरकारी काम के चलते हैं अपने बच्चों के साथ गुरुवार दोपहर को उज्जैन आई थी। अपना काम निपटाने के बाद वह अपने रिश्तेदारों से मिलने उनके घर चली गई थी, उनका रात का खाना खाकर तराना लौटने का प्लान था। एसडीम एकता बताती है कि करीब 8:00 बजे उनके पास उनके चपरासी का फोन आया था, जिसने घर में आग लगने की सूचना दी। वही अग्निकांड की सूचना तुरंत फायर ब्रिगेड को भी दी गई, जिसके बाद मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम पूरी मशक्कत से आग बुझाने में जुट गई। करीब 2 घंटे की मेहनत के बाद आग पर काबू पाया गया और रात 10 बजे तक एसडीएम भी तराना पहुंच गई थी।

आगे एसडीएम ने बताया कि यह सरकारी घर काफी साल पुराना है। मैंने चपरासी को फोन करके शाम को घर की लाइट जलाने के लिए कहा था। घर की वायरिंग भी काफी खराब हो चुकी है, हालांकि शिफ्ट होने से पहले इस घर में काफी काम करवाया गया था। शायद शार्ट सर्किट होने के चलते घर में आग लगी है। आग बेडरूम में लगी थी जिसके चलते अलमारी में रखे सारे कपड़े जल गए है। बता दें कि एसडीएम एकता जयसवाल का आवाज महिदपुर नाके पर है जो कि काफी पुराना है। यहां सिर्फ एसडीएम के ही नहीं बल्कि तहसीलदार नायब तहसीलदार के साथ ही एक दर्जन अधिकारियों के आवास बने हुए हैं।