कमलनाथ ने किया वादा ‘सरकार बनते ही सिरोंज को बनाएंगे पावरलूम हब’

Kamal Nath in Sironj : प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि सिरोंज और विदिशा विकास की दौड़ में पीछे रह गए हैं। उन्होने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनते ही यहां दरी हैंडलूम और पावरलूम का हब बनाएंगे तथा स्थानीय युवाओं को यहीं रोजगार उपलब्ध कराएंगे। कमलनाथ आज सिरोंज पहुंचे थे। यहां आयोजित विशााल जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि ‘मध्यप्रदेश की विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव है पर मैंने 3 हफ्ते पहले ही यह वचन दिया था कि मैं आप सबके बीच आपसे मिलने सिरोंज आऊंगा और मैं अपने वचन का पक्का हूं। मैं वचन से कभी पीछे नहीं हट सकता था, आप सबके बीच आना मेरी प्राथमिकता थी।’

स्थानीय युवाओं को रोजगार मुहैया कराने का वादा

उन्होने कहा कि सिरोंज एक प्राचीन नगरी है, शुरुआत में राजस्थान के टोंक से जुड़ी हुई थी और 1956 में हमारे मध्य प्रदेश के विदिशा जिले से जुड़ी। एक दौर था जब सिरोंज दरी के लिए देश भर में मशहूर था। मुझे यहां आकर बेहद खुशी होती है परंतु साथ-साथ दुख भी इस बात का होता है कि अपना सिरोंज कहीं ना कहीं विकास की दौड़ में पीछे रह गया है। यहां के कागज का उद्योग यहां की रंगीन छपाई और दरी का उद्योग आज पूरी तरह चौपट कर दिया गया है। हमारा सिरोंज और हमारा विदिशा हमारी महान संस्कृति का प्रतीक है, 2023 में कांग्रेस की सरकार बनते ही यहां दरी हैंडलूम और पावरलूम का हब बनाएंगे और स्थानीय युवाओं को यहीं रोजगार मुहैया कराएंगे।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘हमारे देश की संस्कृति जोड़ने की संस्कृति है। हम दिल जोड़ते हैं, संबंध जोड़ते हैं, रिश्ता जोड़ते हैं और यही कांग्रेस की संस्कृति है। ऐसा कोई देश विश्व में नहीं है, जहां इतने धर्म-जातियां हों, भाषाएं और इतने त्यौहार हों इतने देवी-देवता हों। हमारे देश ने अन्य धर्मों को भी जन्म दिया है चाहे हमारा सिख धर्म हो, जैन धर्म हो, हमारा बौद्ध धर्म हो, इन सभी धर्मों का उद्गम भारत में हुआ है। हमारा विदिशा और सिरोंज हमारी उसी महान संस्कृति का प्रतीक है।’ उन्होने कहा कि भाजपा विवाद पैदा करके देश को बरगलाना चाहती है, चाहे वह तमिलनाडु में तमिल और हिंदी का विवाद हो या खालिस्तान का विवाद हो। हमने 30-35 सालों से कभी खालिस्तान का नाम नहीं सुना था, आज खालिस्तान के नारे लग रहे हैं। बाबा साहब अंबेडकर ने एक चुनौती स्वीकार की थी, अपने देश मैं जहां इतनी अनेकताएं हैं, इतनी विभिन्नता हैं, एक ऐसा संविधान हैं जिसमें सभी को एक सूत्र में पिरो कर रखा जा गया। बाबा साहब ने एक महान संविधान की संरचना की परंतु यह संविधान यदि गलत हाथों में चला जाए तो देश का भविष्य क्या होगा? हम सबके सामने यह आज बड़ा प्रश्न है कि हमें अपने संस्कारों और संस्कृति के रास्ते पर चलना है या मोदी के रास्ते पर।

शिवराज सरकार पर लगाए आरोप

उन्होने कहा कि आज यहां पर हमारी माताएं बहनें बैठी हुई हैं, कितने प्यार से उन्होंने अपने बच्चों का पालन पोषण किया है, कैसे हमें इन नौजवानों का भविष्य बनाना है, यह चुनौती हमारे सामने हैं जिस प्रकार से आज समाज को बांटने का धर्मों को बांटने का कार्य शुरु हुआ है, मैं अपनी बात करूं तो मैं हिंदू हूं लेकिन मूर्ख नहीं हूं। आज जातियों को एक दूसरे से भड़काने का कार्य किया जा रहा है लेकिन इनका प्रयास है कि अपने खिलाफ उठने वाली हर आवाज को दबाने का प्रयास किया जाए। कमलनाथ ने कहा कि ‘प्रदेश में 15 साल बाद कांग्रेस की सरकार बनी थी, आपने मेरे हाथों में यह जवाबदारी दी थी। वर्ष 2018 में शिवराज सिंह ने मुझे एक ऐसा प्रदेश सौंपा था जो किसानों की आत्महत्या में नंबर वन, बेरोजगारी में नंबर वन, महिला अत्याचार में नंबर वन। मुझे 15 महीने मिले, जिसमें से ढाई महीने लोकसभा चुनाव और आचार संहिता में चले गये, साढ़े 11 महीने की सरकार में, मैंने कांग्रेस की नीति और नीयत का परिचय दिया। मैंने कौन सा गुनाह मैंने किया कि 27 लाख किसानों का कर्जा मैंने माफ किया, अकेले विदिशा जिले में हमने 1 लाख 2000 किसानों का कर्जा माफ किया था। तब इन्होंने सौदा करके सरकार गिरा दी।’ उन्होनने कहा कि शिवराज जी आपने सरकार गिराई किसलिए? मैं शिवराज सिंह से पूछना चाहता हूं कि क्या इसलिए आपने सरकार गिराई थी कि आप घर-घर में बेरोजगारी दे सके, आप घर-घर में शराब पहुंचा सकें, आप प्रदेश के किसानों को खाद और बीज के लिए तरसा सकें ? यह तस्वीर आज आप सबके सामने हैं।’

कमलनाथ ने ने कहा कि क्या यही मेरा गुनाह है कि मैंने 100 में 100 यूनिट बिजली देने का कार्य किया, मैंने कहा कि मुझे कोई कागज नहीं देखना, हमारी पेंशन हो या गौशाला हो, मैंने कभी घोषणा ही नहीं की, मैं शिवराज सिंह चौहान नहीं हूं, उनसे तो जो घोषणा चाहो, वह करा लो, वह जब तक झूठ ना बोले, उनका खाना हजम नहीं होता। अपने 18 साल के कार्यकाल में उन्होंने लगभग 20 हजार घोषणाएं की। मैं तो शिवराज सिंह जी से हमेशा कहता हूं मैं अपने 15 महीने का हिसाब दूंगा आप अपने 18 वर्ष का हिसाब जनता को दीजिए। सबसे बड़ी चुनौती हमारी बेरोजगारी की है, हमारे कृषि क्षेत्र की है, जब तक किसान की जेब में पैसा ना हो, किराने की दुकान है नहीं चल सकती। यह सिरोंज का बाजार नहीं चल सकता। उन्होने कहा कि ‘हमारी सरकार में किसान को सही मूल्य के लिए खाद-बीज के लिए भटकना नहीं पड़ता था, हिसाब लगा लीजिए पूरे प्रदेश में कितना भाव था मक्के का, गेहूं का, लहसुन का, 1000 गौशालाएं बनाने का कार्य किया और तय किया कि हम 20 रू. प्रति गाय राशि देंगे आज एक रुपए 80 पैसे की राशि दी जा रही है और गौशालाएं बंद होने की कगार पर है। नरेंद्र मोदी कितनी बड़ी-बड़ी बातें करते थे कहते थे दो करोड़ रोजगार प्रतिवर्ष देंगे, अगर नौजवानों के हाथ में रोजगार नहीं होगा, तो कैसे उनके भविष्य का निर्माण होगा। निवेश एक विश्वास का विषय होता है, आज मध्य प्रदेश में कोई निवेश करने के लिए तैयार नहीं है हमारा मध्य प्रदेश 5 राज्यों से घिरा हुआ है मेरा प्रयास था कि मध्य प्रदेश की ऐसी पहचान बनाए जिसमें विश्वास जगाया जा सके और निवेश तभी आता है जब विश्वास होता है।’

जनता से मांगा समर्थन

कमलनाथ ने कहा कि मैंने माफियाओं के खिलाफ शुद्ध का युद्ध शुरू किया था, ताकि हमारे बच्चों को मिलावटी दूध और मिठाई का सेवन ना करना पड़े और मध्य प्रदेश की देश में एक अच्छी पहचान बना सके। शिवराज सिंह जी घोषणा करते हैं कि मैं 1 साल में एक लाख रोजगार दूंगा, मैं तो उनसे कहता हूं कि आप संविदा कर्मचारियों को नौकरी दे दो, अतिथि शिक्षकों को नौकरी दे दो, यह तो वे करेंगे नहीं। आज देश में सबसे ज्यादा कर्ज मध्यप्रदेश के ऊपर है, कर्ज लेकर बड़े-बड़े ठेके दिए जाते हैं और एडवांस पेमेंट की जाती है, ताकि एडवांस से अपनी कमीशन निकाली जा सके, इन्होंने तो भ्रष्टाचार की एक सुदृढ़ व्यवस्था बना रखी है। शिवराज सिंह चौहान लंबी चौड़ी बातें करते हैं, मैं तो यही कहना चाहता हूं कि मुझे मध्य प्रदेश के विदिशा जिले के मतदाताओं पर पूरा भरोसा है। उन्होने कहा कि मध्य प्रदेश में 18 वर्षों का कुशासन याद रखिएगा, मोदी जी ने कैसे बड़े-बड़े वादे किए थे 2014 में 2019 में। आज सच्चाई छुपाने और दबाने और जनता का ध्यान मोड़ने की राजनीति की जा रही है। ऐसे भ्रमित और गुमराह करने वाले मुद्दे उठाए जा रहे हैं कि लोग बेरोजगारी भूल जाए, किसान अपना दुख दर्द भूल जाए। यह कहेंगे कि आज देश खतरे में है, यह कैसे राष्ट्रवादी हैं जो यह हमें राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ा रहे हैं, क्या भारतीय जनता पार्टी अपनी विचारधारा से जुड़े एक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी का नाम बता सकती है जो आजादी की लड़ाई में शामिल हुआ हो?

कमलनाथ ने कहा कि मैं तो आपसे आज यही बात कहने आया हूं कि अब भारतीय जनता पार्टी के पास बचा क्या है, पुलिस पैसा और प्रशासन? और यह मात्र 8 महीने का है, उसके बाद एक-एक से हिसाब लिया जाएगा। यदि कांग्रेस की सरकार बनी तो फिर से अपने सिरोंज और विदिशा को दरी हैंडलूम पावर लूम का हब बनाएंगे ताकि यहां के स्थानीय लोगों को रोजगार मिल सके। शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए हमारे विदिशा के नागरिक को भटकना नहीं पड़ेगा। उन्होने जनता से कहा कि प्रदेश की वर्तमान तस्वीर को सामने रखना और सच्चाई का साथ देना। आप सब ने यदि अपनी कमर ठान ली सिरोंज का झंडा मध्यप्रदेश की विधानसभा में लहराएगा।