आखिर क्यू पहनी डीजीपी ने खून के धब्बों से सनी कैप !

ब्यूरो रिपोर्ट। पुलिस विभाग के अधिकारी का अपनी रिटायरमेंट के दिन ख़ून से सनी कैप पहनना और बैज लगाना सबके लिए चर्चा का विषय बन गया। तमिलनाडु के पुलिस महानिदेशक (प्रशिक्षण) प्रतीप फिलिप ने अपनी नौकरी के आखिरी दिन खून के धब्बों वाली कैप लगाई और बैज पहना। दरअसल यह वो कैप और बैज था जो आज से 30 साल पुराना है, और उस हौलनाक मंजर का गवाह है, यह कैप और बैज राजीव गांधी हत्याकांड के समय प्रतीप फिलिप ने पहने थे, और उस हादसें के वक़्त वह घटनास्थल पर मौजूद थे।

लखीमपुर खीरी की घटना के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चे ने किया कलेक्ट्रेट का घेराव

हालांकि उस घटना के बाद सबूत के तौर पर यह कैप और बैज भी जमा कर लिए गए थे, अदालत ने साल 1991 की चुनावी रैली के दौरान हुए आत्मघाती हमले में घायल हुए फिलिप को रिटायरमेंट से दो-दिन पहले चेन्नई की अदालत ने बतौर सबूत जमा ये दोनों चीजें लेने की अनुमति दी थी। इस कैप और बैज को पहनने के बाद फिलिप ने कहा 34 साल की सेवा के समापन पर यह टोपी और बैज पहनना उस आघात, जोश, कानून, उदासी जैसी भावनाओं का प्रतीक है, जिससे मैं गुजरा।

Guna : बैगन का भरता नहीं बनाने पर पति ने पत्नी को मारा चाकू, मामला दर्ज

फिलिप की मानें तो वो मंजर आज भी उनकी आंखों के सामने वैसा ही है। वो इंतज़ार कर रहे थे कि रिटायरमेंट के बाद वह उस घटना के अनुभवों पर किताब लिखेगे, जिसमें लिट्टे की आत्मघाती हमलावर ने आत्मघाती हमला कर 14 अन्य लोगों की जान ले ली थी। फिलिप उस वक्त कांचीपुरम में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक थे और विस्फोट में बच गए थे, जिसमें राजीव गांधी और अन्य की मौत हो गई थी। फिलिप की उम्र उस समय 30 साल थी। उनकी तैनाती कांचीपुरम जिले के एएसपी के रूप में थी। गांधी की सुरक्षा में लगे पुलिस दस्ते में वह भी शामिल थे।

MP के शासकीय कर्मचारियों के हित में हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, दिए ये महत्वपूर्ण आदेश

फिलिप का कहना है कि 19 मई को, आयोजनकर्ताओं ने वेन्यू बदल दिया। फिलिप ने इस पर आपत्ति जताई मगर आयोजक जिद पर अड़े थे। फिलिप दो दिन की छुट्टी के बाद कोच्चि से लौटे थे। वहां वह अपनी नवजात बच्ची को पहली बार देखने गए थे जो 11 मई को जन्मी थी। फिलिप को याद कि राजीव गांधी एक सफेद कुर्ता पहनकर बुलेटप्रूफ कार से निकल रहे थे। फिलिप एक लाठी के जरिए भीड़ कंट्रोल कर रहे थे। उन्होंने महिलाओं पर काबू के लिए दो महिला अधिकारियों को लगाया।

MP के शासकीय कर्मचारियों के हित में हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, दिए ये महत्वपूर्ण आदेश

फिलिप याद करते है। कि वह आगे चल रहे थे। जब उन्होंने मुड़कर देखा तो राजीव महिलाओं के एक समूह से घिरे हुए थे। धानु नाम की हमलावर ने राजीव के पैर छूने का नाटक करते हुए विस्फोटकों से लदी बेल्ट उड़ा दी। उस हमले में राजीव समेत कुल 16 लोग मारे गए। फिलिप और करीब 45 और लोग बुरी तरह घायल हुए। जब उनको होश आया तो उनके मुंह पर खून था और तरफ का मंजर काफी भयानक था। लंबे समय तक अस्पताल में रहने और इलाज के बाद फिलिप वापस काम पर लौट पाए थे।