किसान सम्मान निधि : बड़े बदलाव की तैयारी में सरकार, 70 लाख किसानों को मिलेगा लाभ

।इसके लिए केंद्र सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम में बड़ा बदलाव करने की तैयारी में है।

मोदी सरकार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। किसानों (Farmers) के लिए खुशखबरी है। बजट 2021 (Budget 2021) में करोड़ों के तोहफे देने के बाद केन्द्र की मोदी सरकार (Modi Government)  एक बार फिर 70 लाख किसानों को बड़ा तोहफा देने की तैयारी में है। खबर है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi) में जल्द बड़ा बदलाव होने वाला है। खुद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) ने इस बात के संकेत दिए है। यह किसान आंदोलन (Farmers Protest) के बीच सरकार का बड़ा मास्टर स्ट्रोक माना जा रहा है।

यह भी पढ़े…MP Weather Update : मप्र में 48 घंटों बाद बदलेगा मौसम, इन जिलों में बारिश के आसार

दरअसल, हाल ही में पश्चिम बंगाल (West Bengal) में आयोजित एक रैली को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि सरकार बनने पर हर किसान के खाते में 18 हजार रुपए ट्रांसफर (Transfer) किए जाएंगे।यहां के किसानों को 12 हजार रुपए समेत इस साल के 6 हजार रुपए देंगे।इसके लिए केंद्र सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम में बड़ा बदलाव करने की तैयारी में है। इसके बाद नया रजिस्ट्रेशन (registration) करने वाले किसानों को एक साथ ज्यादा पैसे मिलेंगे।अगर ऐसा होता है तो प्रदेश के 70 लाख किसानों को इसका फायदा मिलेगा।

इसे बीजेपी का चुनावी स्टंट माना जा रहा है। हैरानी की बात तो ये है कि वर्तमान में पश्चिम बंगाल में एक भी किसान को इस योजना का लाभ नहीं मिल रहा है क्योंकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) ने इसे लागू ही नहीं किया है, ऐसे में  विधानसभा चुनाव (Assembly elections) से पहले शाह ने यह घोषणा कर बड़ा दांव खेला है। शाह के इस बयान के बाद ममता सरकार (Mamta Government) में खलबली मच गई है।

यह भी पढ़े… MP Budget 2021 : किसानों और कर्मचारियों को बड़ा तोहफा दे सकती है शिवराज सरकार

गौरतलब है कि पीएम-किसान सम्मान योजना को 1 दिसंबर, 2018 को मोदी सरकार द्वारा शुरू किया था, जिसके तहत केंद्र सरकार 2 हेक्टेयर तक जमीन वाले किसानों को सालाना 6000 रुपये भेजती है। वर्तमान में पीएम-किसान सम्मान योजना का लाभ 11.47 करोड़ से ज्यादा लाभार्थियों को मिल रहा है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में इसका बजट 20,000 करोड़ रखा गया था और 2019-20 में इसका बजट 75,000 करोड़ कर दिया गया था।हालांकि 2020-21 के बजट में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई है।