IAS Transfer 2024: बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, राज्य में हुआ 5 आईएएस अधिकारियों का तबादला, मिला अतिरिक्त प्रभार, देखें लिस्ट

राज्य में 5 आईएएस अधिकारियों को नवीन पदस्थापना मिली है। आइए जानें किसे कहाँ और कौन सी जिम्मेदारी सौंपी गई है?

Manisha Kumari Pandey
Published on -
IAS Transfer 2024

IAS Transfer 2024: पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार ने 5 आईएएस अधिकारियों का स्थानंतरण किया है। कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार विभाग ने इस संबंध में अलग-अलग आदेश भी जारी किए हैं। कईयों को अतिरिक्त प्रभार भी सौंपा गया है। इस लिस्ट में आईएएस अधिकारी विवेक कुमार, मनोज कुमार, बिनोद कुमार, स्मारकी महापात्रा और डॉ कृष्णा गुप्ता का नाम शामिल है। आइए जानें किसे कौन-सी जिम्मेदारी सौंपी गई है-

बैच 1990 के आईएएस अधिकारी विवेक कुमार को अतिरिक्त मुख्य सचिव, भूमि एवं  भूमि सुधार और शरणार्थी राहत एवं पुनर्निवास विभाग और LRC पद पर तैनात किया गया है। इससे पहले वह वन विभाग अतिरिक्त मुख्य सचिव पद पर कार्यरत थे। उन्हें अतिरिक्त सचिव, पशु संसाधन विकास विभाफ और ओएसडी रेजिडेंट कमिश्नर नई दिल्ली कार्यालय का अतिरिक्त प्रभार भी सौंपा गया है।

ias transfer

बैच 1990 के आईएएस अधिकारी मनोज कुमार अग्रवाल को अतिरिक्त मुख्य सचिव, अग्निशमन और आपातकालीन सेवा विभाग पद पर नियुक्त किया गया है। साथ ही अतिरिक्त मुख्य सचिव वन विभाग का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।

ias transfer

समारकी महापात्रा बैच 2002 आईएएस अधिकारी को अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन आधिकारी पद से हटाकर सचिव, जन शिक्षा विस्तार और पुस्तकालय सेवा विभाग के पद पर तैनात किया गया है।

ias transfer

 

डॉ कृष्णा गुप्ता  बैच 1990 आईएएस अधिकारी को अतिरिक्त मुख्य सचिव, सहकारिता पद पर नियुक्त किया गया है। वह पहले अतिरिक्त मुख्य सचिव, जन शिक्षा विस्तार और पुस्तकालय सेवा विभाग पद पर कार्यरत थे।

ias transfer

बैच 1996 के आईएएस अधिकारी विनोद कुमार को अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी पश्चिम बंगाक को स्थानंतरित करके शहरी विकास और नगरपालिका मामलों के विभाग में प्रधान सचिव पद पर तैनात किया गया है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News