IAS Transfer: राज्य में बड़ी प्रशासनिक सर्जरी, 3 आईएएस अधिकारियों को का हुआ तबादला, जानें किसे मिली कौन-सी जिम्मेदारी 

राज्य में तीन आईएएस अधिकारियों का स्थानंतरण किया गया है। आइए जानें उन्हें कहा और कौन-सी जिम्मेदारी सौंपी गई है?

Manisha Kumari Pandey
Published on -
ias transfer

IAS Transfer 2024: गुजरात में एक बार फिर बड़ा प्रशासनिक फेरबदल देखने को मिला है। राज्य में तीन आईएएस अधिकारियों का तबादला किया गया है। सामान्य प्रशासन विभाग ने स्थानंतरण को लेकर आदेश भी जारी कर दिया है। इस लिस्ट में हरित शुक्ला, पीडी पलसाना और बी.एच तलाटी का नाम शामिल हैं।

बैच 1999 के आईएएस अधिकारी हरित शुक्ला को चुनाव आयोग के अनुमोदन के साथ गुजरात के नए मुख्य निर्वाचन अधिकारी के पद पर नियुक्त किया गया है। वह इन दिनों विदेश छुट्टी पर हैं, कुछ दिनों में लौटने की उम्मीद है। इससे पहले शुक्ला सरकार के प्रमुख सचिव (पर्यटन, देवस्थानम प्रबंधन नागरिक उड्डयन और तीर्थयात्रा), उद्योग एवं खान विभाग, सचिवालय, गांधीनगर पद पर कार्यरत थे। उन्होनें आईएएस अधिकारी पी भारती की जगह ली है।

बता दें कि पी भारती ने हाल ही में राज्य के 5 विधानसभा सीटों के लिए आम चुनाव और उप चुनाव की निगरानी की थी। मसूरी में उनका प्रशिक्षण पूरा होने बाद राज्य प्रशासन में नियुक्ति की उम्मीद है।

बैच 2021 की आईएएस अधिकारी पीडी पलसाना को संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी के पद से हटाकर कृषि, किसान कल्याण और सहकारिता विभाग में संयुक्त सचिव पद पर तैनात किया गया है।

बैच 2010 के आईएएस अधिकारी बी.एच तलाटी को अहमदाबाद के राज्य ग्रामीण विकास संस्थान में विशेष निदेशक पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वर्तमान में वह जलवायु परिवर्तन विभाग, गांधीनगर के अतिरिक्त सचिव पद पर कार्यरत हैं।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News