IMD Alert: 17 राज्यों में बारिश का येलो ऑरेंज अलर्ट, चक्रवाती सिस्टम सक्रिय, पर्वतों पर बर्फबारी शुरू, जल्द होगी ठंड की दस्तक

बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र उत्पन्न हो रहा है। कम दाम क्षेत्र उत्पन्न होने की वजह से बालेश्वर भद्रक केंद्रपड़ा और जगतसिंहपुर सहित पूरी मैं भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। मानसून की विदाई (Returning Monsoon) के साथ ही कई राज्य में बारिश (Rain) पर रोक लग गई है। हालांकि कुछ राज्य में बारिश का दौर जारी है। IMD Alert के अनुसार पूर्वोत्तर भारत सहित पूर्वी भारत और दक्षिणी राज्य में एक बार फिर से भारी बारिश (Heavy rain) का अलर्ट जारी किया गया है। साथ ही मानसून की विदाई होते ही पहाड़ी इलाकों के ऊपर बर्फबारी भी शुरू हो गई है। जिसके कारण अक्टूबर के तीसरे सप्ताह से देश में ठंड की दस्तक देखने को मिलेगी।

इसी बीच आईएमडी द्वारा केरल कर्नाटक तमिलनाडु आंध्र तेलंगाना सहित बिहार झारखंड पश्चिम बंगाल उड़ीसा में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। इसके अलावा असम मेघालय मणिपुर नागालैंड अरुणाचल प्रदेश में भी गरज चमक के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। उत्तर प्रदेश के पूर्वी क्षेत्रों में बौछारें देखने को मिलेगी जबकि राजधानी दिल्ली सहित गुजरात राजस्थान छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश में आसमान में बादल छाए रहेंगे। मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ के कुछ क्षेत्रों में मध्यम दर्जे की बारिश रिकॉर्ड की जा सकती है।

दक्षिण पश्चिम मानसून 2022 के दिल्ली से विदाई हो गई है। इससे पहले राजस्थान से मानसून की विदाई देखने को मिली थी। भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक दिल्ली में मानसून के दौरान राजधानी में 19% कम बारिश रिकॉर्ड की गई है। दरअसल 19% या उससे अधिक बारिश को सामान्य की श्रेणी में रखा जाता है। इससे पहले जम्मू कश्मीर के कुछ हिस्सों सहित हिमाचल प्रदेश पश्चिम उत्तर प्रदेश हरियाणा और राजस्थान से भी मानसून की विदाई देखने को मिली है।

Read More : शिवराज सरकार की बड़ी तैयारी, अबतक 50 हजार करोड़ की राशि मंजूर, आँगनवाड़ी-स्कूल समेत 53 लाख हुए लाभान्वित

मौसम प्रणाली

  • वही मौसम प्रणाली की बात करें तो प्रशांत महासागर में तूफान नूरु के कारण बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र निर्मित हुआ है।
  • चीन सागर से उठे चक्रवात का असर भी बंगाल की खाड़ी पर पड़ रहा है। जिसे एक कम दबाव का क्षेत्र 2 दिन के अंदर निर्मित होने की आशंका जताई गई है। दो वेदर सिस्टम की वजह से देश के कई राज्यों में बारिश की शुरुआत देखी जाएगी।
  • इससे पहले मध्य प्रदेश में एक कम दबाव का क्षेत्र निर्मित हुआ था। जिसके कारण उत्तर प्रदेश सहित छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश और आसपास के इलाकों में बूंदाबांदी देखने को मिल रही थी।
  • वहीं राजस्थान पर एक एंटीसाइक्लोन की वजह से 24 से 48 घंटे के बीच उत्तर पश्चिम के कुछ क्षेत्रों में और मध्य भारत में बारिश देखने को मिलेगी। दरअसल मध्य भाग में चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। एक अन्य चक्रवाती हवा का क्षेत्र बंगाल की खाड़ी के पश्चिम मध्य पर स्थित है।
  • 1 अक्टूबर तक एक चक्रवाती परिसंचरण उत्तर पूर्व और उससे सटे पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी में भी उतरने की उम्मीद जताई गई है।

मानसून की विदाई

वहीं मौसम विभाग की माने तो मध्य भारत और इससे सटे हिस्सों से अगले दो से 3 दिनों में दक्षिण पश्चिम मानसून की विदाई हो जाएगी। इससे स्थितियां अनुकूल होती जा रही है। 4 से 5 दिनों में 3 निम्न दबाव के क्षेत्र निर्मित होने की वजह से कई क्षेत्रों में बौछारों का सिलसिला शुरू होगा।

मौसम विभाग ने 30 नवंबर से 7 अक्टूबर के बीच तेलंगना रायलसीमा सहित पांडिचेरी कराईकल में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। साथ ही उत्तरी आंतरिक कर्नाटक में भी भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

यूपी में मौसम साफ़

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आज मौसम साफ बना रहेगा। न्यूनतम तामपान 26 डिग्री अधिकतम 35 डिग्री रहने की संभावना जताई गई। 3 अक्टूबर को राजधानी दिल्ली में बारिश देखने को मिल सकती है। वहीं गाजियाबाद में न्यूनतम तापमान में 2 फीसद गिरावट रिकॉर्ड की जाएगी ।आसमान में बादल छाए रहेंगे। शाम के समय ठंडी हवा चलने से मौसम सुहावना बना रहेगा।

बिहार में बौछार जारी

बिहार से जल्दी मानसून की विदाई देखी जा सकती है। इससे पहले 1 सप्ताह तक छिटपुट बारिश का दौर जारी रहेगा। वायुमंडल में उतार-चढ़ाव के कारण मौसम के मिजाज में लगातार नरमी देखी जा रही है। वहीं मौसम विभाग केंद्र की माने तो न्यूनतम तापमान में 2 फीसद की गिरावट रिकॉर्ड की गई है। कहीं-कहीं हल्की बारिश की संभावना जताई गई है। लोकल बारिश के कारण पूर्णिया और उसके आसपास के इलाके में बारिश का माहौल बना हुआ है। इसके अलावा मंगलवार से एक बार फिर बिहार में बारिश का दौर शुरू होगा।

झारखण्ड में भारी बारिश वज्रपात

झारखंड के कुछ इलाकों में थोड़ी देर में भयानक बारिश का अलर्ट जारी कर दिया गया है। दरअसल मौसम विभाग चतरा गढ़वा गिरिडीह गुमला हजारीबाग कोडरमा लातेहार पलामू रामगढ़ सिमडेगा सहित संथाल परगना के इलाके में अगले 1 से 3 घंटे के दौरान हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश की संभावना जताई है। इसके साथ ही और वज्रपात की संभावना से लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है। 7 अक्टूबर तक दक्षिण पश्चिम झारखंड सहित उत्तर और मध्य भाग में भारी बारिश की आशंका जताई गई है। इसके अलावा रांची बोकारो गुमला हजारीबाग में बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

आंध्र प्रदेश में येलो अलर्ट

आंध्र प्रदेश में मौसम विभाग द्वारा गरज चमक के साथ भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसके साथ ही 5 अक्टूबर तक क्षेत्र में बारिश का दौर जारी रहेगा। साथ ही महाराष्ट्र कर्नाटक आंध्रप्रदेश तमिलनाडु उड़ीसा झारखंड और पश्चिम बंगाल में भारी बारिश देखने को मिलेगी।

उड़ीसा में भारी बारिश की संभावना

मौसम विभाग ने उड़ीसा में भारी बारिश की संभावना जताई है। गुंजन कटक मयूर बाग सहित कई इलाकों में भारी बारिश का अलर्ट जारी करते हुए अलर्ट घोषित किया गया। दरअसल बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र उत्पन्न हो रहा है। कम दाम क्षेत्र उत्पन्न होने की वजह से बालेश्वर भद्रक केंद्रपड़ा और जगतसिंहपुर सहित पूरी मैं भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। इसके अलावा झाजापुर खुर्द नयागढ़ और गजपति में भी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

आईएमडी के अनुसार दक्षिण-पश्चिम मानसून पंजाब, जम्मू-कश्मीर के कुछ हिस्सों, हिमाचल प्रदेश, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान और पूरी दिल्ली से वापस आ गया है। पश्चिम बंगाल, ओडिशा और झारखंड समेत कई इलाकों में अगले दो से तीन दिनों तक बारिश होने की संभावना है।.मानसून 2022 अब अपनी अंतिम विदाई की ओर बढ़ रहा है।

MP-CG में मंगलवार से बदलेगा मौसम

मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ में कुछ दिनों तक मौसम का मिजाज बिगड़ा हुआ रहेग। कुछ क्षेत्रों में बारिश की आशंका जताई गई। अधिकतम और न्यूनतम तापमान में गिरावट देखी जाएगी। मौसम विभाग का कहना है कि मंगलवार से एक बार फिर से मध्यप्रदेश और आसपास के क्षेत्रों में मौसम में बदलाव देखने को मिलेंगे। भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। निम्न दबाव की डिप्रेशन में बदलने के बाद इसके पश्चिम की तरफ बढ़ने की संभावना जताई गई है। इस दौरान मध्य भारत के राज्यों में भारी बारिश देखने को मिल सकती है।

पूर्वी राज्यों में भारी बारिश

पूर्वी राज्यों में भारी बारिश का दौर जारी रहेगा। 7 अक्टूबर तक असम मेघालय नगालैंड मणिपुर मिजोरम त्रिपुरा सहित पश्चिम बंगाल सिक्किम और झारखंड में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।दरअसल आज बंगाल की खाड़ी में एक निम्न दाब के क्षेत्र तैयार होगा। जिसके जल्द डिप्रेशन में बदलने की संभावना जताई गई है। डिप्रेशन में बदलने की वजह से इन क्षेत्रों में 7 अक्टूबर तक बारिश का दौर जारी रहेगा।

कई राज्यों में बूंदाबादी

हालांकि अभी भी कई इलाकों में बारिश हो रही है, लेकिन पहाड़ी इलाकों के ऊपरी इलाकों में बर्फबारी शुरू हो गई है। इस बीच, भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने आज देश के कई हिस्सों में बारिश की भविष्यवाणी की है।तमिलनाडु, रायलसीमा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में अलग-अलग जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश संभव है।ओडिशा, झारखंड, बिहार के कुछ हिस्सों, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, कर्नाटक, सिक्किम और पूर्वोत्तर भारत में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।