IMD Weather Update : कोहरे में लिपटी दिल्ली, परेशानी बढ़ाएगी ठंड, हिमाचल में बर्फ़बारी की संभावना, देखें अपने राज्य का हाल

IMD Weather Update

IMD Weather Update Today 13 January 2024 : शनिवार की सुबह उत्तर भारत के अधिकांश राज्यों में तेज ठंड वाली ही रही, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली तो कोहरे की चादर में लिपटी दिखाई दी, कई राज्यों में सुबह के समय कोल्ड डे के हालत बने रहे, पंजाब हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड राजस्थान जैसे राज्य कोल्ड डे से प्रभावित रहे।

घने कोहरे की स्थिति और कम दृश्यता

आईएमडी ने पूर्वानुमान जारी करते हुए कहा है कि अगले तीन से चार दिनों में सुबह के समय उत्तर पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में घना से बहुत घना कोहरा छाए रहने की संभावना है। आईएमडी के अनुसार जब दृश्यता शून्य से 50 मीटर के बीच होती है तो उसे बहुत घने कोहरे की श्रेणी में रखा जाता है। 51 और 200 मीटर के बीच दृश्यता को घना कोहरा माना जाता है, जबकि 201 और 500 मीटर के बीच दृश्यता को मध्यम और 501 और 1,000 मीटर के बीच दृश्यता को उथला माना जाता है।

अमृतसर में पारा 1.4 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचा 

आईएमडी ने पिछले 24 घंटों का हाल बताते हुए जानकारी दी कि पंजाब में बर्फीली हवाएं जारी है, कल शुक्रवार को दिनभर सूरज निकलने के बावजूद लोगों को ठंड से राहत महसूस नहीं हुई, अमृतसर में सबसे कम तापमान 1.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया इसके अलावा गुरदासपुर में 3 डिग्री सेल्सियस, फरीदकोट में 2.8 डिग्री, बठिंडा में 2 डिग्री, बरनाला में 3.8 डिग्री, पटियाला में 4.4 डिग्री, फतेहगढ़ साहिब में 4.7 डिग्री और लुधियाना में 4.6 डिग्री दर्ज किया गया। वहीं हरियाणा के नारनौल में सबसे ठंडारहा, यहाँ तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, भिवानी में 3.9 डिग्री न्यूनतम तापमान रहा, हिसार में 5.1 डिग्री, अंबाला में 6.6 डिग्री, करनाल में 6.9 डिग्री और सिरसा में 6.4 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।

हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी की संभावना

IMD ने हिमाचल प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बर्फबारी और बारिश की संभावना जताई है, अगले 24 से 48 घंटों के दौरान पश्चिमी हिमालय में छिटपुट बारिश और बर्फबारी संभव है वहीं 16 और 17 जनवरी को चंबा, किन्नौर, लाहौल स्पीति और शिमला जैसे ऊंचे इलाकों में बर्फबारी की संभावना है।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News