आयकर विभाग की छापेमारी चौथे दिन भी जारी, अबतक जब्त हुए 177 करोड़ रुपए, कई दस्तावेज भी बरामद

रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार छापेमारी में घर से अब तक 10 करोड़ रुपये बरामद किए जा चुके हैं।

कानपूर, डेस्क रिपोर्ट। देश में अब तक के बड़े भ्रष्टाचार (corruption) का खुलासा हुआ है। जहां कानपुर के एक उद्योगपति के घर से हुई मैराथन छापेमारी (Raid) में अब तक 177 करोड रुपए की जब्ती की जा चुकी है। इसके अलावा व्यवसाई के पैतृक घर में आज भी छापेमारी की कार्रवाई जारी रही। इस दौरान टीम ने उद्योगपति पीयूष जैन (piyush jain) के घर छापेमारी में कई तरह के केमिकल पदार्थ के अलावा कई दस्तावेज भी बरामद किए हैं।

इससे पहले जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय यानी DGGI और आयकर विभाग (IT) की टीम ने कन्नौज के कारोबारी के घर छापेमारी कार्रवाई की थी। गुरुवार से शुरू हुई छापेमार कार्रवाई अब तक जारी है। वहीं अलमारी में इतने पैसे मिले हैं कि नोट गिनने की मशीन में भी बुलाई गई है। वहीं अधिकारियों का कहना है कि कार्रवाई अभी जारी रहेगी। माना जा रहा है कि कार्रवाई में नगद सहित दस्तावेज और कई राज खुलकर सामने आ सकते हैं।

कानपुर के इत्र उद्योगपति पीयूष जैन के व्यापार और आधिकारिक परिसरों पर विभिन्न  एजेंसियों द्वारा छापेमारी की कार्रवाई में 177 करोड़ रुपये से अधिक की बेहिसाब नकदी का पता लगाने के दो दिन बाद Law enforcement अधिकारियों ने छापे के रूप में 2,000 रुपये के नोटों से भरे 8 बोरे पाए। रविवार को उत्तर प्रदेश के कन्नौज में व्यवसायी के पैतृक घर में जारी रहा। इस दौरान अधिकारियों को इत्र और केमिकल का स्टॉक मिला है। वहां कई दस्तावेज की भी बरामदी हुई हैं।

Read More : कांग्रेस विधायक ने मंच पर छुए सिंधिया के पैर, चर्चाओं का बाजार गर्म, देखें वीडियो

रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार छापेमारी में घर से अब तक 10 करोड़ रुपये बरामद किए जा चुके हैं। अधिकारियों की जांच चल रही है। वहीँ पियूष जैन के घर को सील कर दिया गया है, जबकि कर अधिकारियों की भारी मौजूदगी के बीच गहन तलाशी जारी है। सूत्रों का कहना है कि छापेमारी में और भी नकदी मिलने की संभावना है।

कानपुर के उद्योगपति पीयूष जैन के आवासीय और व्यावसायिक परिसरों पर गुरुवार और शुक्रवार को आयकर विभाग, केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) और माल और सेवा कर सहित विभिन्न कर-चोरी विरोधी एजेंसियों के अधिकारियों ने छापेमारी की थी।

हालांकि छापेमारी और जब्ती की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है लेकिन कर-प्रवर्तन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि कानपुर, गुजरात और मुंबई में जैन के कई परिसरों पर छापेमारी गुरुवार को शुरू हुई। जो अबतक जारी है।

विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रहे कथित छापे की कुछ तस्वीरों में कानपुर में जैन के घर में बड़ी अलमारी में नोटों के ढेर दिखाई दे रहे हैं। पियूष जैन कानपुर से सटे कन्नौज जिले में भी परफ्यूम बनाने वाली इकाइयां चलाते हैं। कर अधिकारियों ने शहर में पान मसाला और अन्य सुगंधित तंबाकू उत्पादों के ‘शिखर’ ब्रांड के निर्माण कारखाने में भी छापा मारा था।

अधिकारी ने बताया कि रिहायशी परिसरों में छापेमारी के दौरान भारी मात्रा में कागज में लिपटी नकदी बरामद हुई है। माना जा रहा है कि धन कथित तौर पर नकली चालान के माध्यम से माल भेजने और माल ट्रांसपोर्टर द्वारा ई-वे बिल के बिना जुड़ा हुआ था। इस बीच कन्नौज में भी छापेमार कीप्रक्रिया जारी है जिसके मुताबिक दोपहर करीब तीन बजे अधिकारी जैन के दो बेटों मोलू और प्रत्यूष के साथ कन्नौज स्थित आवास पर पहुंचे और आवास में प्रवेश किया और छापेमार प्रक्रिया हुरु की गई।