ज्योतिरादित्य की बीजेपी को नसीहत- मंदिर बनवाना सिंधिया परिवार से सीखें

jyotiraditya-scindia-says-bjp-should-learn-from-scindia-family-how-to-construct-a-temple

जयपुर

गुना सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी को नसीहत दी है । उन्होंने कहा है कि अगर बीजेपी को वाकई मंदिर बनाना है तो सिंधिया परिवार से सीखना चाहिए। जिसने राजस्थान, मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश में 60 से ज्यादा मंदिर बनवाए है, लेकिन इससे समुदायों के बीच कोई समस्या नहीं आई। सिंधिया ने कहा कि बीजेपी की आदत है कि शोर मचाओ और कहो- कसम गीता की, मंदिर हम वहीं बनाएंगे, पर तारीख नहीं बताएंगे।’वही सिंधिया ने मध्यप्रदेश की मतदान प्रक्रिया पर भी सवाल खड़े किए।

दरअसल, रविवार को राजस्थान चुनाव में प्रचार करने पहुंचे पूर्व केंद्रीय मंत्री औऱ गुना सासंद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राजधानी जयपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी पर जमकर हमला बोला। सिंधिया ने कहा, राजनीति में धर्म और धर्म में राजनीति नहीं करनी चाहिए। जहां तक किसी व्यक्ति के धर्म का सवाल है, यह उसका निजी मामला है। बीजेपी की शोर करने की आदत रही है जैसे वह कहते हैं, ‘कसम गीता की, मंदिर हम वहीं बनाएंगे पर तारीख नही बताएंगे’। उन्होंने कहा, ‘यह बीजेपी की वास्तविकता है। यदि वे मंदिर का निर्माण करना सीखना चाहते हैं, तो उन्हें सिंधिया परिवार से सीखना चाहिए, जिसने राजस्थान, यूपी, एमपी और महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में 60 मंदिर बनाए लेकिन समुदायों के बीच कभी भी कोई परेशानी नहीं हुई।

उन्होंने कहा यदि आप पांच राज्यों में हमारी चुनाव प्रक्रिया को देखेंगे तो यह दिखेगा कि कांग्रेस अपने सिद्धांतों पर बहुत साफ है। हमारे सिद्धांत है शांति और सहिष्णुता का माहौल पैदा करना। बीजेपी द्वारा निर्मित असहिष्णुता का माहौल हम ही खत्म करेंगे। हमारा लक्ष्य हर समाज का विकास है। उन्होंने कहा कि यह हमारी परंपरा है जिसे हम लगातार जारी रखेंगे।

बता दें कि सुषमा स्वराज ने कुछ दिन पहले राजस्थान में अपने एक बयान में कहा था राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हिंदू होने का मतलब नहीं पता है। उन्होंने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि वह और कांग्रेस अपने धर्म और जाति के बारे में कन्फ्यूज हैं। कई सालों से उन्हें सेक्युलर नेता के तौर पर पेश किया गया लेकिन चुनाव के पास उन्हें एहसास हुआ कि हिंदू बहुसंख्यक हैं इसलिए अब ऐसी छवि बना रहे हैं।