पुलवामा हमले पर बयान देने के बाद ‘द कपिल शर्मा शो’ से निकाले गए नवजोत सिंह सिद्धू

navjot-singh-sidhu-sacked-from-the-kapil-sharma-show-after-comments-on-pulwama-attack

मुंबई।

 पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर दिए गए अपने बयान के बाद पंजाब सरकार में मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू चौतरफा घिर गए हैं।  बयान के बाद उन्हें कॉमिडी शो द कपिल शर्मा शो  से हटा दिया गया है।उन्हें चैनल ने रिजाइन करने को कहा गया। चैनल ने इस बारे में प्रॉडक्‍शन हाउस से बात की थी। चैनल चाहता था कि सिद्धू तत्‍काल शो से हट जाएं। शो में उनकी जगह अर्चना पूरण सिंह शो में नजर आएंगी। अर्चना सिंह ने इसकी पुष्टि की है और कहा है कि शो के कई एपिसोड्स भी शूट कर लिए गए है।

दरअसल, सिद्धू के इस बयान का काफी विरोध हो रहा था। सिद्धू की मौजूदगी के चलते लोग शो पर बैन लगाने की मांग भी कर रहे थे। सोशल मीडिया यूजर्स #boycottTheKapilSharmaShow के अंतर्गत शो को तब तक न देखने की अपील कर रहे थे। ऐसे में दबाव में आकर मेकर्स को फैसला लेना ही पड़ा और शो से सिद्धू की छुट्टी कर दी गई।बता दें कि इससे पहले भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने पहुंचे थे, उस वक्त भी उन्हें काफी ट्रोल किया गया था।

क्या था सिद्धू का बयान

पूर्व क्रिकेटर-राजनेता सिद्धू ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा था कि क्या कुछ लोगों की करतूत के लिए पूरे देश को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है?’ ये एक बेहद कायराना हमला था। मैं इस हमले की कड़ी निंदा करता हूं. हिंसा को किसी भी तरीके से जायज नहीं ठहराया जा सकता, जिन्होंने ऐसा किया है, उन्हें इसकी सजा मिलनी ही चाहिए। भारत व पाकिस्तान के बीच मुद्दों का स्थायी हल खोजने की जरूरत है। उन्होंने कहा था कि इस तरह के लोगों (आतंकवादियों) का कोई देश, धर्म और जाति नहीं होती है। चंद लोगों की वजह से पूरे राष्ट्र (पाकिस्तान) को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। सिद्धू की इन टिप्पणियों पर लोगों में नाराजगी देखी गई और उन्हें कपिल शर्मा शो से बाहर करने की मांग होने लगी।जिसके बाद चैनल द्वारा ये कार्रवाई की गई है।

बता दें कि पुलवामा में गुरुवार को हुए आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए।जम्मू एवं कश्मीर में 1989 में आतंकवाद के सिर उठाने के बाद पुलवामा जिले में श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर हुए सबसे घातक आतंकवादी हमले में जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से भरी अपनी एसयूवी को सीआरपीएफ की एक बस में टक्कर मार दी थी, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए और कई घायल हैं।