No Confidence Motion: मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव लोकसभा में गिरा, अधिरंजन चौधरी सस्पेंड

No Confidence Motion: सरकार के खिलाफ विपक्ष द्वारा पेश किया गया अविश्वास प्रस्ताव लोकसभा में गिर चुका है। बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार पिछले 9 सालों में दूसरी बार अविश्वास प्रस्ताव का सामना कर रही है। 26 जुलाई को विपक्ष की ओर से अविश्वास प्रस्ताव को पेश किया गया था, जिसे लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने स्वीकृति दे दी थी। गुरुवार को उनके निर्देश पर पीएम मोदी के सम्बोधन के बाद ध्वनिमत मतदान शुरू हुआ। इस दौरान INDIA का अविश्वास प्रस्ताव गिर गया है।

2018 में भी आया था अविश्वास प्रस्ताव

इससे पहले जुलाई, 2018 में विपक्ष द्वारा अविश्वास प्रस्ताव पेश किया गया था। समर्थन में 126 वोट मिले थे। वहीं खिलाफ 325 सांसदों ने वोट दिया था।

अधिरंजन चौधरी लोकसभा से सस्पेंड

पीएम मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में अधिरंजन चौधरी को इस सत्र के लिए सस्पेंड कर दिया गया है।

पीएम मोदी ने साधा विपक्ष पर निशाना

इस दौरान पीएम मोदी ने विपक्षों दलों पर निशाना साधा। मणिपुर मामले पर विपक्ष को जवाब देते हुए कहा, “मणिपुर में तब किसकी सरकार थी, जब सब कुछ उग्रवादी संगठनों की इच्छा के मुताबिक होता था? मणिपुर में तब किसकी सरकार थी, जब सरकारी दफ्तरों में महात्मा गांधी की तस्वीरे लगाने की अनुमति नहीं थी, तो किसकी सरकार थी?” आगे पीएम में कॉंग्रेस को मिजोरम घटना की याद दिलाई और कहा, “5 मार्च, 1956 को कॉंग्रेस ने मिजोरम की निर्दोष जनता पर वायु सेना के जरिए हमले कराए। राज्य अभी भी उस दर्द को भूल नहीं पाया है।”


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News