Police Transfer 2024: पुलिस विभाग में बड़ा फेरबदल, एक साथ हुआ 216 उप निरीक्षकों का तबादला, आदेश जारी, देखें पूरी लिस्ट 

106 सब-इंस्पेक्टरों को मण्डल के 5 अलग-अलग जिलों में भेजा गया है। वहीं सुल्तानपुर से 9, बाराबंकी से 5, अंबेडकरनगर से 18 और अमेठी 38 उपनिरीक्षकों को अयोध्या जिले में तैनात किया गया है। 

Manisha Kumari Pandey
Published on -
police transfer

Police Transfer 2024: उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में बड़ा फेरबदल हुआ है। आईजी प्रवीण कुमार ने रविवार को अयोध्या रेंज में एक साथ 216 उप निरीक्षकों का तबदला कर दिया है। ज्यादातर पुलिस कर्मी जिले में पिछले 6 साल तक तैनात थे। इस संबंध में आदेश भी जारी हो चुका है।

आदेश अनुसार अयोध्या जिले में कार्यरत 106 सब-इंस्पेक्टरों को अमेठी, सुल्तानपुर, बाराबंकी और अम्बेडनगर भेजा गया है। वहीं सुल्तानपुर से 9, बाराबंकी से 5, अंबेडकरनगर से 18 और अमेठी 38 उपनिरीक्षकों को अयोध्या जिले में तैनात किया गया है।

कृष्ण प्रताप यादव को अयोध्या से अमेठी, अरविंद कुमार त्रिपाठी को सुल्तानपुर, हरे कृष्णा को अमेठी,  वीरेंद्र बहादुर सिंह को अंबेडकर नगर, जय नारायण सिंह को अमेठी,  अनुराग पाठक को बाराबंकी, सत्य प्रकाश यादव को बाराबंकी, आशीष कुमार को अंबेडकर नगर, बबलू कुमार को अंबेडकर नगर, रवीश कुमार यादव को अंबेडकर नगर, साधना सिंह को बाराबंकी और धनेंद्र कुमार को अंबेडकर नगर भेजा गया है।

अमित कुमार को बाराबंकी और अमित शंकर यादव को सुल्तानपुर भेजा गया है। यशवंत लाल द्विवेदी को सुल्तानपुर, सुबोध कुमार त्यागी को सुल्तानपुर, रणविजय सिंह को सुल्तानपुर, शशि प्रकाश वर्मा को सुल्तानपुर, पंकज कुमार को अंबेडकर नगर, संजय कुमार को बाराबंकी, विवेक कुमार राय को सुल्तानपुर, अर्जुन यादव को अंबेडकर नगर, अभिषेक त्रिपाठी को अंबेडकर नगर, दिवेश त्रिवेदी को सुल्तानपुर, महेंद्र प्रताप सिंह को अमेठी, जितेंद्र यादव को सुल्तानपुर, सुरेश गुप्ता को बाराबंकी, राजेश कुमार यादव को सुल्तानपुर में उप निरीक्षक पद पर तैनात किया गया है।

तबादले की पूरी सूची:-

police transfer
police transfer
police transfer


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News