राम विलास पासवान की पार्टी LJP बिखरी, अकेले पड़े चिराग, 5 सांसदों ने बनाया अलग गुट

खबर ये भी है कि पशुपति नाथ को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है इसीलिए ये नया गुट जल्दी ही जनता दल यूनाइटेड (JDU) में शामिल हो जायेगा।

पटना, डेस्क रिपोर्ट।  पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के संस्थापक राम विलास पासवान के निधन को अभी एक महीना भी नहीं हुआ कि उनके छोटे भाई और भतीजे ने राम विलास पासवान (Ram vilas Paswan) की राजनीतिक विरासत को अस्वीकार कर दिया है।  राम विलास पासवान के छोटे भाई और हाजीपुर से सांसद पशुपति नाथ पारस ने पांच सांसदों के साथ अलग गुट बनाने की घोषणा कर दी है और इसकी जानकारी लोक सभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को भी दे दी है।

ये भी पढ़ें – आज है World Blood Donor Day, आइए जानें रक्तदान से जुड़े मिथक और उन्हें मिटाने का प्रयास करें

देश की अलग अलग राज्यों में चल रही राजनीतिक उथल पुथल के बीच एक बड़ी खबर बिहार से आ रही है। खबर ये है कि राम विलास पासवान की पार्टी लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) बिखर गई है।  पार्टी के पांच सांसदों ने लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के अध्यक्ष राम विलास पासवान के बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) को अस्वीकार कर दिया है।  खबर है कि अलग गुट बनाकर पांचों सांसदों ने राम विलास पासवान के छोटे भाई पशुपति नाथ पारस को नया नेता चुन लिया है। खबर ये भी है कि अब ये पांचों सांसद लोकसभा अध्यक्ष से मुलाकात कर उनके गुट को सदन में मान्यता के लिए अनुरोध करेंगे और चुनाव आयोग से जल्दी ही मुलाकात करेंगे।

चिराग के फैसलों पर उठते रहे हैं सवाल 

राम विलास पासवान के निधन के बाद लोक जनशक्ति पार्टी (LJP)  की बागडोर उनके बेटे चिराग पासवान के हाथों में आ गई थी।  लेकिन उनकी कार्यशैली को लेकर दल के अंदर लगातार सवाल उठते रहे। बिहार विधानसभा चुनाव से पहले NDA से अलग होकर अकेले चुनाव लड़ने के चिराग पासवान के फैसले ने भी पार्टी नेताओं को चौंका दिया था नतीजा ये हुआ कि पार्टी को विधानसभा में एक सीट पर ही  जीत मिली और वो विधायक भी जनता दल यूनाइटेड (JDU) में शामिल हो गया।

ये भी पढ़ें – Video: विश्वास सारंग ने दिग्विजय को कहा देशद्रोही, कांग्रेस से स्पष्टीकरण की मांग

इन पांच सांसदों ने बनाया अलग गुट 

लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के अंदर लगातार चल रही अंदरूनी कलह के बाद पार्टी के 6 में से पांच सांसदों चिराग के चाचा पशुपति नाथ पारस, चचेरे भाई प्रिंस पासवान, चन्दन कुमार, वीणा सिंह और महबूब अली केसर ने अलग गुट बना लिया है और नया नेता पशुपति नाथ को चुन लिया है। पार्टी में टूट हो जाने के बाद  अब चिराग पासवान संसद में अकेले पड़ गए हैं।

केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार हो सकती है LJP टूटने की एक वजह

लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के टूटने की एक वजह मोदी सरकार के नए मंत्रिमंडल विस्तार को भी माना जा रहा है।  खबर ये भी है कि पशुपति नाथ को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है इसीलिए ये नया गुट जल्दी ही जनता दल यूनाइटेड (JDU) में शामिल हो जायेगा। इस टूटन में जनता दल यूनाइटेड (JDU) के एक सांसद की बड़ी भूमिका मानी जा रही है।