राज्य सरकार की बड़ी प्रशासनिक सर्जरी, 5 आईएएस अधिकारियों का हुआ तबादला, मिली नई जिम्मेदारी, आदेश जारी, यहाँ देखें लिस्ट

Manisha Kumari Pandey
Published on -
ias transfer 2024

IAS Transfer News: तमिलनाडु में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल हुआ है। राज्य सरकार ने 5 आईएएस अधिकारियों को को इधर से उधर किया है। साथ ही नई जिम्मेदारी सौंपी हैं। सार्वजनिक (स्पेशल-ए) विभाग ने स्थानांतरण और पोस्टिंग का आदेश भी जारी किया है।

इन दो पदों का हुआ सृजन

आदेश के अनुसार आईएएस कैडर नियम 1954 के नियम 4 (2) के तहत आईएएस के सुपर टाइम स्केल में शासन सचिव, समाज कल्याण एवं महिला अधिकारिता विभाग के अस्थायी पदों के सृजन को भी राज्य सरकार ने मंजूरी दे दी है। आईएएस के उच्च प्रशासनिक ग्रेड में मत्स्य पालन के प्रमुख सचिव/आयुक्त को नियुक्ति की तारीख से एक वर्ष की अवधि के लिए या उनकी आवश्यकता समाप्त हने तक नियुक्त किया जाएगा।

इन अधिकारियों को मिली नई जिम्मेदारी

    • आईएएस डॉ एल सुब्रमण्यम कृषि आयुक्त को तमिल विकास और सूचना विभाग के सरकार सचिव के पद पर नियुक्त किया गया है।
    • समाज कल्याण एवं महिला अधिकारिता विभाग के शासन सचिव पद पर जयश्री मुरलीधरन, सरकार सचिव दिव्यांगजन कल्याण विभाग से हटाकर समाज कल्याण एवं महिला अधिकारिता विभाग के सचीव पद पर पदस्थापित किया है।
    • सरकार सचिव, दिव्यांगजन कल्याण विभाग के पद जयश्री मुरलीधरन को हटाकर आईएएस थिरु एस नागराजन को तैनात किया गया है। उन्हें मानव संसाधन प्रबंधन विभाग के सरकारी सचिव का अतिरिक्त प्रभाव भी सौंपा गया है।
    • सृजत पद मत्स्य पालन के प्रमुख सचिव/आयुक्त के पद पर डॉ के.एस को हटाकर आईएएस थिरु शुनचोनगम को नियुक्त किया गया है, वह तमिलनाडु मत्स्य विकास निगम प्रबंध निदेशक के रूप में भी कार्य करेंगे।
    • डॉ के.एस पलानीसामी को मत्स्य पालन आयुक्त और प्रबंध निदेशक पद से हटाकर थिरु एस नागराजन के स्थान पर भूमि प्रशासन आयुक्त के पद की जिम्मेदारी सौंपी गई गई है।

ias transfer 2024

ias transfer 2024


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News