कोविशिल्ड के दो डोज़ के बीच बढ़ सकता है अंतराल, अगले हफ्ते तक फैसला संभव

CONGRESS

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। सरकार कोविशिल्ड (Covishield) वैक्सीन के दो डोज़ के बीच का अंतराल बढ़ाने पर विचार कर रही है और जल्द ही इसे लेकर फैसला हो सकता है। इस बारे में एक्सपर्ट पैनल में चर्चा हो रही है। एक अंतर्राष्ट्रीय स्टडी में ये बात साबित हुई है कि दो डोज़ के बीच का समय बढ़ा दिया जाए तो ये अधिक प्रभावी हो सकती है।

दिल्ली में ऑक्सीजन सप्लाई पर केंद्र को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, कहा- कड़े फैसले लेने पर मजबूर न करें

पुणे (Pune) के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) में तैयार हुई कोविशिल्ड की दो डोज के बीच गैप को अप्रैल में भी बढ़ाया गया था। उस समय इसे चार-छह हफ्ते से बढ़ाकर छह-आठ हफ्ता कर दिया गया था। अब इसके बीच के गैप को और बढ़ान के बारे में अगले हफ्ते तक फैसला लिया जा सकता है।

बता दें कि मार्च में द लैंसेट जर्नल में प्रकाशित एक रिसर्च स्टडी के मुताबिक कोविशिल्ड के दो डोज़ के बीच अगर 12 हफ्ते का अंतराल हो तो इसका प्रभाव 81.3 फीसदी हो जाता है। वहीं अगर दोनों डोज़ 6 हफ्तों के भीतर दे दिया जाए तो इसका प्रभाव सिर्फ 55.1 फीसदी ही रहती है। अन्य देशों में पहले से ही कोविशिल्ड के दो डोज़ का अंतर 12 से 16 हफ्तों के बीच किया गया है। ब्रिटेन में इसे 12 हफ्ते के अंतराल पर दिया जा रहा है वहीं कनाडा में पहले और दूसरे डोज़ के बीच 16 हफ्ते का अंतर रखा जा रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि दो डोज़ के बीच बढ़े अंतराल के कारण इम्यून रिस्पॉन्स बेहतर होता है। अगले सप्ताह तक भारत में भी इसे लेकर फैसला लिये जाने की उम्मीद है।