सरकार गिरने के डर के बीच उद्धव ने खेला हिंदुत्व कार्ड, दो शहरों के बदले नाम

बिना नाम बदले भी शिवसेना और उद्धव ठाकरे अक्सर औरंगाबाद को संभाजी नगर कहकर ही संबोधित किया करते थे। वहीं, उस्मानाबाद का नाम भी धाराशिव की मांग शिवसेना की थी।

मुंबई, डेस्क रिपोर्ट। महाराष्ट्र में अपनी सरकार चले जाने के खौफ के बीच शायद उद्धव ने हिंदुत्व कार्ड खेला है। कैबिनेट बैठक के दौरान औरंगाबाद और उस्मानाबाद के नाम बदलने को मंजूरी मिल गई है, अब औरंगाबाद को ‘संभाजी नगर’ और उस्मानाबाद को ‘धाराशिव’ के नाम से जाना जाएगा।

फ्लोर टेस्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के बीच, महाराष्ट्र से यह फैसला आया। हालांकि, शिवसेना पिछले काफी समय से दोनों जगहों का नाम बदलने पर विचार कर रही थी लेकिन उसके इस रास्ते में कांग्रेस अक्सर अड़चन पैदा कर रही थी, लेकिन जैसे ही सत्ता खतरा में आई है, तुरंत ही कांग्रेस ने अपना समर्थन दे दिया है। प्रदेश में फिलहाल, शिवसेना की कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन वाली सरकार है।

हालांकि, बिना नाम बदले भी शिवसेना और उद्धव ठाकरे अक्सर औरंगाबाद को संभाजी नगर कहकर ही संबोधित किया करते थे। वहीं, उस्मानाबाद का नाम भी धाराशिव की मांग शिवसेना की थी।

बता दे, औरंगाबाद और उस्मानाबाद का नाम बदलने के अलावा नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट का नाम भी बदल दिया गया है। कैबिनेट ने इस एयरपोर्ट का नाम स्वर्गीय दिनकत बालू पाटिल रख दिया गया है। दिनकत बालू पाटिल किसान नेता और सांसद रहे हैं।