Vande Bharat Express: जोधपुर-साबरमती के बीच 7 जुलाई से दौड़ेगी वंदे भारत एक्सप्रेस, यहाँ देखें टाइम टेबल

Vande Bharat Train

Vande Bharat Express: जोधपुर और अहमदाबाद (साबरमती) के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस की सेवाएं 7 जुलाई से शुरू होने जा रही है। बता दें कि यह राजस्थान की दूसरी वंदे भारत ट्रेन है, जिसे पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को रवाना करेंगे। 5 जून यानि आज ट्रेन का ट्रायल रन भी इस रूट में शुरू कर दिया गया है।

जोधपुर-साबरमती रूट

रेल मंत्रालय के मुताबिक सप्ताह में 6 दिन वंदे भारत एक्सप्रेस का संचालन जोधपुर से साबरमती के बीच होगा। केवल मंगलवार के दिन इस रूट में ट्रेन की सेवा उपलब्ध नहीं होगी। गाड़ी संख्या 12461 जोधपुर स्टेशन से सुबह 5:55 बजे रवाना होगी और सुबह 6:45 बजे पाली स्टेशन पहुंचेगी। 7 बजे फालना जंक्शन, 9:05 बजे आबूरोड जंक्शन, 10:04 बजे पालनपुर, 10:49 बजे मेहसाना और दोपहर 12:05 बजे साबरमती जंक्शन पर पहुंचेगी। इस दौरान ट्रेन आबू रोड को छोड़कर सभी स्टेशनों पर 2 मिनट के लिए ठहरेगी।

साबरमती-जोधपुर रूट

वहीं गाड़ी संख्या 12462 दोपहर 4:45 बजे साबरमती स्टेशन से जोधपुर के लिए रवाना होगी। शाम 5:33 बजे मेहसाना स्टेशन पर दो मिनट के लिए रुकेगी। उसके बाद शाम 6:38 बजे पालनपुर जंक्शन, शाम 7:25 बजे आबूरोड जंक्शन, रात 8:23 बजे फालना, रात 9:53 बजे पालि जंक्शन और रात 11:10 बजे जोधपुर जंक्शन पहुंचेगी।

6 घंटे में पूरा होगा सफर

बता दें कि जोधपुर से अहमदाबाद पहुँचने में 8 घंटे का समय लगता है। लेकिन वंदे भारत एक्सप्रेस के जरिए केवल 6 घंटे 10 मिनट में 453 किलोमीटर की यात्रा पूरी होगी। ट्रेन का संचालन नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे द्वारा किया जाएगा। इस दौरान ट्रेन में 8 कोच मौजूद होंगे।

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News