MP में आपका स्वागत है, IRCTC के इस टूर में घूमिये विश्व प्रसिद्द खजुराहो मंदिर, जबलपुर का धुंआधार वॉटरफॉल, ग्वालियर का ऐतिहासिक किला

IRCTC MP Tour : मध्य प्रदेश को देश का हृदय प्रदेश कहा जाता है, ये प्रदेश जितना खूबसूरत है उतना ही ऐतिहासिक रूप से समृद्ध है, यहाँ के प्राचीन मंदिरों की दीवारों पर उकेरी गई प्रतिमाएं देश दुनिया के पर्यटकों की अपनी तरफ आकर्षित करती है, भव्य किले दुश्मनों से मिली जीत का गौरव गान करते है। यदि आप मध्य प्रदेश को देखना चाहते हैं तो IRCTC के इस शानदार टूर पैकेज में अपने लिए सीट अवश्य बुक करा लीजिये।

इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन यानि आईआरसीटीसी ने इस बार पर्यटकों के लिए मध्य प्रदेश का टूर प्रोग्राम एनाउंस किया है। इस टूर में पर्यटक ऐतिहासिक किला, खूबसूरत वॉटरफॉल, विश्व प्रसिद्द मंदिर सहित  और भी बहुत कुछ देखने को मिलेगा।

28 नवम्बर को हैदराबाद एयरपोर्ट से उड़ान भरेगा हवाई जहाज 

IRCTC के इस टूर के लिए यात्रियों को लेकर स्पेशल हवाई जहाज हैदराबाद एयरपोर्ट से 28 नवम्बर 2023 को उड़ान भरेगा, टूर 5 रत 6 दिन का है जिसका किराया 35,000/- रुपये प्रति व्यक्ति निर्धारित किया गया है, किराये के और भी ऑप्शन हैं जिन्हें आप सदस्य संख्या के आधार पर चुन सकते हैं।

 ये डेस्टिनेशन होंगी कवर

यात्रियों की प्लेन की कम्फर्ट क्लास में यात्रा कराई जाएगी, टूर का नाम Magnificent Madhya Pradesh दिया गया है। इस टूर में पर्यटक प्रदेश के ग्वालियर, जबलपुर, खजुराहो और ओरछा जैसे प्रसिद्द शहर घूम सकेंगे, ग्वालियर में ऐतिहासिक किला, जयविलास पैलेस म्यूजियम, जबलपुर में भेडाघाट (धुंआधार) वॉटरफॉल, ओरछा का विश्व प्रसिद्द राम राजा सरकार मंदिर एवं खजुराहो के विश्व प्रसिद्ध उन मंदिरों को आप देख सकेंगे जो अपनी दीवारों पर उकेरी गई खास तरह की मूर्तियों के पर्यटकों को आकर्षित करते हैं।

ऐसे करवा सकते हैं अपनी सीट रिजर्व 

यदि आप देश के हृदय प्रदेश को देखना चाहते हैं तो जल्दी से IRCTC का आधिकारिक वेबसाईट पर विजिट कीजिये अथवा आधिकारिक ट्विटर एकाउंट पर जाकर टूर की डिटेल देखिये और फिर अपनी सीट अभी से रिजर्व करा लीजिये। आप 8287932228 नंबर पर कॉल करके भी अपनी टिकट बुक करवा सकते हैं।

 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News