मंगल ग्रह पर दिखने वाले रहस्यमई दरवाजे का नासा ने किया खुलासा

क्यूरोसिटी रोवर ने एक के बाद एक तीन ट्वीट के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। जिसमे कहा गया है कि, मंगल ग्रह पर रहस्यमयी ग्रह की जांच की गई है। वास्तव में, यह एक प्राकृतिक भूगर्भिक विशेषता है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। नासा के क्यूरियोसिटी रोवर ने मंगल ग्रह पर आज से 5 दिन पूर्व एक तस्वीर ली थी। जिसे नासा ने जारी किया था। इस तस्वीर में द्वार दिख रहा था जिसके आगे रॉकफेस था। यह द्वार सच में था या भ्रम इसको लेकर काफी प्रतिक्रिया देखी गयी। एक्सप्लोरर के कैमरा द्वारा सोल 3466 से यह पिक्चर 7 मई को लिया गया था। जिसकी सोशल मीडिया पर काफी चर्चा हुई थी।

यह भी पढ़ें- सोनू सूद ने सोनू की सुन ली, इंटरनेशनल स्कूल में कराया दाखिला

Curiosity Rover on Twitter: “Some of you have noticed this image I took on Mars. Sure, it may look like a tiny door, but really, it’s a natural geologic feature! It may just *look* like a door because your mind is trying to make sense of the unknown. (This is called “pareidolia”) https://t.co/TrtbwO7m46 https://t.co/VdwNhBkN6J” / Twitter

सोशल मीडिया के बहस में लोगों ने काफी प्रतिक्रिया दी। किसी ने कहा द्वार है। किसी ने कहा यहाँ एलियन रहते हैं। किसी ने कहा मंगल ग्रह के निवासी वहां चिप्पे हैं। किसी ने कहा यह सिर्फ चट्टान का टुकड़ा है। इसी सब के बीच क्यूरोसिटी रोवर के वेरिफाइड अकाउंट से यह जानकारी सामने आयी है कि यह प्राकृतिक भूगर्भिक जियोलॉजिक संरचना है।

यह भी पढ़ें- बरगी बांध के पुल घाट में पांव फिसलने से माँ और बेटे डूबे, पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा

क्यूरोसिटी रोवर ने एक के बाद एक तीन ट्वीट के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। जिसमे कहा गया है कि, मंगल ग्रह पर रहस्यमयी ग्रह की जांच की गई है। आप में से कुछ लोगों ने मेरे द्वारा मंगल ग्रह पर ली गई इस छवि पर ध्यान दिया है। ज़रूर, यह एक छोटे से दरवाजे की तरह लग सकता है, लेकिन वास्तव में, यह एक प्राकृतिक भूगर्भिक विशेषता है! यह एक दरवाजे की तरह *दिखता है* क्योंकि आपका दिमाग अज्ञात का बोध कराने की कोशिश कर रहा है। (इसे “पेरिडोलिया” कहा जाता है)

यह भी पढ़ें- इंदौर में महिला थाने के पास धमाकों के साथ लगी आग, जब्ती के वाहन आये आग की चपेट में

यहां एक ज़ूम-आउट दृश्य है जिसमें फीचर चक्कर लगाया गया है। इसमें आपको एक चट्टान में 2 फ्रैक्चर के बीच एक छोटा सा दरार (>30 सेमी लंबा) दिखाई देता है। टीले में कई रैखिक फ्रैक्चर हैं – लेकिन इस स्थान पर, कई फ्रैक्चर प्रतिच्छेद करते हैं, जिससे चट्टान इतने तेज कोणों पर टूट जाती है।

यह भी पढ़ें- TVS ने भारत में लॉन्च किए नए इलेक्ट्रिक स्कूटर, जाने कितना मिलेगी रेंज

कम शाब्दिक अर्थ में, मेरी विज्ञान टीम इन चट्टानों में प्राचीन अतीत के “द्वार” के रूप में रुचि रखती है। जैसे ही मैं इस पहाड़ पर चढ़ता हूं, मैं देख रहा हूं कि मिट्टी के उच्च स्तर ने सल्फेट्स नामक नमकीन खनिजों को रास्ता दिया है – अरबों साल पहले मंगल ग्रह पर पानी कैसे सूख गया था इसके बारे में साक्ष्य मिल सकते हैं।