लूट वारदात में फरार चल रहे आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे, सामान जब्त

रतलाम, सुशील खरे। जिले में 12 दिन पूर्व एक निजी बैंक के लोन एजेन्ट से लूट की वारदात कर फ़रार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपियों के पास से लूट का सामान भी बरामद कर लिया है। घटना को अंजाम देने के दौरान एक नाबालिग भी शामिल था। दरअसल, रतलाम जिले की बिलपांक थाना प्रभारी ब्रजेश मिश्रा के पदभार संभालने के बाद ये एक माह के भीतर ही दूसरी बड़ी कार्रवाई है, इसके पहले 180 पेटी अंग्रेजी शराब के बाद ये लूट के आरोपी पकड़े गए है।

पुलिस कंट्रोल रूम पर प्रेसवार्ता के दौरान एसपी ने बताया कि 18 अगस्त को जिले के ग्राम मसवाड़िया जिला उज्जैन से ग्रुप लोन का कलेक्शन कर एजेंट विकास पिता मुकुंदीलाल वर्मा 27 वर्ष बिलपांक थाना क्षेत्र में भीलखेड़ा के कच्चे रास्ते पर मोटरसाइकिल से जा रहा था ,तभी पूर्व से घात लगाए बैठे बदमाशों द्वारा बांस के डंडे से मारपीट कर विकास से नगदी, टेबलेट मशीन, बैंक लोन के कागज ,आधार कार्ड ,पैन कार्ड ,लाइसेंस अन्य बैंक के कागज कुल 1 लाख रूपये से अधिक की राशि का माल लूट कर भाग गए थे। जिसके बाद विकास की रिपोर्ट पर बिलपांक थाने पर धारा 394 ,397 के तहत मामला दर्ज किया गया।

उक्त मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी गौरव तिवारी ने एक टीम का गठन कर मामले की छानबीन करवाई। इस बीच पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर मसवाड़िया जिला उज्जैन के निवासी रोहित पिता शशिकांत उर्फ शांतिलाल पाटीदार 23 वर्षीय, गोपाल सिंह पिता ईश्वर सिंह राजपूत 19 वर्षीय ,लाला उर्फ विजय सिंह पिता रतन सिंह राजपूत 19 वर्षीय,संदीप पिता रामचंद सुतार उम्र 18 वर्षीय,अजय सिंह पिता बृजपाल सिंह राजपूत 22 वर्षीय और एक नाबालिक किशोर को गिरफ्तार कर पूछताछ की।

पूछताछ के दौरान सभी आरोपियों ने घटना को अंजाम देना कबूल किया। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही से लुटे हुए माल को बरामद कर लिया है। उक्त मामले में सराहनीय कार्य करने पर एसपी तिवारी ने बिलपांक थाना प्रभारी ब्रजेश मिश्रा और उनकी टीम को 10 हजार रूपये इनाम देने की घोषणा की है।