Astrology: इन ग्रहों के कारण होता है नेत्र रोग, कमजोर होती हैं आँखें, आजमाएं ये उपाय

ग्रहों को नेत्र रोग का कारण भी जाता है। ग्रहों के राजा सूर्य को दायीं और चंद्रमा बायीं आंख के कारक हैं। वहीं शुक्र को नेत्र ज्योति का कारक माना जाता है।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
astrology

Astrology: ग्रहों और नक्षत्रों का जीवन मनुष्य से गहरा संबंध होता है। शारीरिक समस्याओं और बीमारियों के लिए ग्रहों को जिम्मेदार माना जाता। शरीर के अंगों का नवग्रहों से नाता होता है। ग्रहों की कमजोर स्थिति इन अंगों को कमजोर करती हैं। जिसके कारण अलग-अलग प्रकार की बीमारियों का सामना करना पड़ता।

सूर्य और चंद्रमा का आँखों से गहरा संबंध

आंखों से दो ग्रहों का खास संबंध होता है। ग्रहों के राजा सूर्य को दायीं और चंद्रमा बायीं आंख के कारक हैं। वहीं शुक्र को नेत्र ज्योति का कारक माना जाता है। शुक्र की वजह से ही आंखें खूबसूरत दिखती हैं।

Continue Reading

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"