जीवन के हर क्षेत्र में हार का करना पड़ रहा है सामना, तो भगवद गीता में लिखी इन बातों पर करें अमल

Sanjucta Pandit
Published on -

Bhagavad Gita Updesh : भगवद गीता को हिंदू धर्म का अहम और पवित्र ग्रंथ माना जाता है। इसमें भगवान श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को युद्ध के समय उसके धर्म और कर्तव्य के प्रति उपदेश दिया गया था। इसमें मानवता, कर्म, धर्म, योग और जीवन के विभिन्न पहलुओं पर विचार किया गया है। इसलिए गीता के सिद्धांतों और उपदेशों को समझकर लोग समस्त विश्व के कार्यों से प्रेरित होते हैं। गीता का सन्देश व्यक्तिगत स्तर पर ही नहीं, बल्कि समाज और समस्त मानवता के लिए भी एक मार्गदर्शन है। इसी कड़ी में आज हम आपको उनके एक अध्याय के बारे में बताएंगे, जहां हार से बचाव के बारे जानकारी दी गई है।

जीवन के हर क्षेत्र में हार का करना पड़ रहा है सामना, तो भगवद गीता में लिखी इन बातों पर करें अमल

आत्म मूल्यांकन

हर व्यक्ति के पास अपनी विशेषताएं, क्षमताएं और कमजोरियां होती हैं। जब हम इन्हें समझते हैं और उन्हें स्वीकार करते हैं, तो हमें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सहायता मिलती है। खुद का मूल्यांकन करने से हमें अपने अधिकारों और क्षमताओं की समझ मिलती है, जो हमें सही दिशा में ले जाने में मदद करती हैं।

समाज से रखें संबंध

भगवद गीता में श्रीकृष्ण ने मानव जीवन में समर्थ होना और सफलता प्राप्त करने के लिए मित्रता, संबंध और सामाजिक संपर्कों को महत्त्वपूर्ण बताया है। उन्होंने समझाया है कि सहयोग, समर्थन और सहानुभूति जीवन को सशक्त और सुखमय बनाते हैं। वहीं, जो लोग खुद में रहते हैं वो लोग हमेशा असफल होते हैं।

जल्दबाजी ना करें

जल्दबाजी और तुलना की आदत हमें लक्ष्य को प्राप्त करने से रोकती है। जब हम अन्यों से तुलना करते हैं या जल्दबाजी में काम करते हैं, तो इससे नुकसान होता है। सफलता के लिए हमेशा विवेकपूर्ण निर्णय लें। वहीं, हर चीज़ को अपनी खासियतों और मूल्यों के साथ देखना और अपने लक्ष्यों के दिशा में सीधे कदम बढ़ाना जरूरी होता है।

अंहकार से बचें

संकोच और अहंकार ये दोनों ही स्थितियाँ असफलता की दिशा में आने का कारण बन सकती हैं। संकोच वाले व्यक्ति कई अवसरों को गंवा सकता है, जबकि अहंकार से भरे व्यक्ति को सही दिशा में चलने में मुश्किल हो सकती है। अहंकार व्यक्ति को गलतीयों में फंसा देता है।

(Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। MP Breaking News किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।)


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News