7 दिन बाद मंगल बदलेंगे चाल, इन 4 राशियों को होगा नुकसान, बढ़ेगी मुश्किलें, 45 दिनों तक रहें सतर्क

शौर्य और पराक्रम के कारक मंगल मकर राशि में गोचर करेंगे। इससे कुछ राशियों को नुकसान होगा। आइए जानें मंगल गोचर का बुरा प्रभाव किन-किन राशियों पर पड़ेगा?

Manisha Kumari Pandey
Published on -
mangal gochar 2024

Mars Transit in Capricorn, Mangal Gochar 2024: वैदिक ज्योतिष शास्त्र में मंगल को अग्नि, क्रोध, शौर्य और पराक्रम का कारक माना जाता है। मंगल मकर और धनु राशि के स्वामी हैं। 5 फरवरी को ग्रहों के सेनापति अपनी राशि “मकर ” में प्रवेश करने जा रहे हैं। 45 दिनों तक इसी राशि में विराजमान रहेंगे। इसका नकारात्मक और सकारात्मक प्रभाव सभी राशि के जातकों पर पड़ेगा। किसी को लाभ तो किसी को नुकसान होगा। कुछ राशियों पर इस गोचर का बुरा प्रभाव पड़ेगा।

मिथुन राशि (Gemini)

मिथुन राशि के जातकों के लिए मंगल का गोचर अनुकूल नहीं रहेगा। धनहानी की संभावनाएं हैं। कहीं भी पैसा लगाने से पहले विचार-विमर्श जरूर करें। कार्यक्षेत्र में भी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। कोर्ट-कचहरी के मामले परेशान कर सकते हैं। मानसिक तनाव भी हो सकता है।

कर्क राशि (Cancer)

कर्क राशि के जातकों को भी सतर्क रहने की जरूरत है। वैवाहिक जीवन में उतार-चढ़ाव हो सकता है। जीवनसाथी के साथ अनबन हो सकती है। सेहत का खास ख्याल रखने की जरूरत है। खर्चों में बढ़ोत्तरी हो सकती है। आर्थिक तंगी होने की संभावना है।

कन्या राशि (Virgo)

कन्या राशि के जातकों पर भी मंगल का गोचर का नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। लव लाइफ का पर्सनल लाइफ प्रभावित होगी। सफलता की राह में कई बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं। सहकर्मियों के साथ संबंध बुरे हो सकते हैं। कहीं भी निवेश करने से पहले विचार करें,
धन हानि होने की संभावना है। छात्रों के लिए यह समय अनुकूल नहीं रहेगा।

मकर राशि (Capricorn)

मकर राशि के जातकों के लिए भी यह गोचर शुभ नहीं होगा। मानसिक तनाव बढ़ सकता है। घर-परिवार की सुख-शांति को भंग हो  सकती है। लड़ाई-झगड़े बढ़ेंगे। खर्चों में खर्चों में वृद्धि होगी। गुस्से पर काबू रखने की जरूरत है।
(Disclaimer: इस आलेख का उद्देश्य केवल सामान्य जानकारी साझा करना है, जो पंचांग, ग्रंथों, मान्यताओं और विभिन्न माध्यमों पर आधारित है। इन बातों के सत्यता और सटीकता की पुष्टि MP Breaking News नहीं करता।)

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News