Money Tips: चुपके से इस तरह आती है गरीबी, इन आदतों से नाराज होते हैं धन कुबेर

Money Tips: धन कुबेर को धन का देवता माना जाता है। उनकी कृपा से हमें धन-दौलत और समृद्धि प्राप्त होती है। लेकिन, यदि धन कुबेर नाराज हो जाएं तो धन हानि, गरीबी, और अन्य समस्याएं आ सकती हैं।

भावना चौबे
Published on -
Kuber Dev

Money Tips: धन-संपत्ति हर किसी के जीवन का एक अहम हिस्सा होती है। सुख-शांति के लिए आर्थिक रूप से मजबूत होना जरूरी है। हमारी भारतीय संस्कृति में सदियों से धन प्राप्ति के उपायों को अपनाया जाता रहा है। वास्तु शास्त्र, जो कि जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह सुनिश्चित करने का एक प्राचीन विज्ञान है, धन की आवक बढ़ाने के लिए कई कारगर उपाय सुझाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कभी-कभी धन हानि के कुछ संकेत भी मिलते हैं, जिन्हें नजरअंदाज करना ठीक नहीं होता? हिंदू धर्म में, धन के देवता कुबेर को माना जाता है। यदि वे किसी कारणवश नाराज हो जाएं, तो धनवान व्यक्ति भी कंगाल हो सकता है। आइए, इस लेख में हम वास्तु शास्त्र के अनुसार धन वृद्धि के उपायों के साथ-साथ धन हानि के संकेतों को भी जानें। साथ ही यह भी जानेंगे कि कुबेर देव को प्रसन्न करने के क्या तरीके हैं, ताकि आपके जीवन में धन-धान्य का सदा वास बना रहे।

इन कारणों की वजह से घर में आती गई गरीबी

  • घर में जाले लगना एक आम बात है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि वास्तु शास्त्र में इसे अशुभ माना जाता है? यदि आपके घर में जल्दी-जल्दी जाले लग जाते हैं, तो यह आर्थिक नुकसान, अवरोध और नकारात्मक ऊर्जा का संकेत हो सकता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर को साफ-सुथरा रखना और जाले ना लगने देना शुभ होता है। घर की नियमित रूप से सफाई करें, खासकर उन कोनों और छतों को जहां जाले लगने की संभावना होती है। घर में पर्याप्त रोशनी रखें। अंधेरे कोनों में जाले लगने की संभावना ज्यादा होती है। घर में नमी को कम करें। नम वातावरण में जाले जल्दी लगते हैं। मकड़ी को घर से बाहर निकालें या उनको मारने से बचें।
  • यदि आपको बार-बार धन हानि का सामना करना पड़ रहा है, मेहनत के बाद भी धन की आवक में कमी आ रही है, तो यह धन कुबेर, धन के देवता, की नाराजगी का संकेत हो सकता है। ऐसी स्थिति में, पैसों की बचत करने की हर कोशिश नाकाम रहती है और घर में पैसा टिकता ही नहीं है। यदि आपके पास अचानक धन हानि होने लगे या आय के मुकाबले खर्चे बढ़ने लगें तो यह धन कुबेर के नाराज होने का संकेत हो सकता है।
  • घर में शीशे का टूटना या चटकना अक्सर अशुभ माना जाता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, यह घटनाएं नकारात्मक ऊर्जा और संकट का संकेत हो सकती हैं। यदि आपके घर में बार-बार शीशे टूट रहे हैं, तो यह सतर्क रहने का समय है। यह सबसे आम कारण है। शीशे नाजुक होते हैं और यदि उनसे ठीक से व्यवहार न किया जाए तो वे आसानी से टूट सकते हैं। खराब गुणवत्ता वाले शीशे कम टिकाऊ होते हैं और आसानी से टूट सकते हैं।
  • हिंदू धर्म में, पूजा के दौरान दीपक का जलना शुभ माना जाता है। लेकिन यदि पूजा करते समय दीपक अचानक बुझ जाए तो इसे अशुभ माना जाता है। यह घटना देवी-देवताओं के नाराज होने का संकेत हो सकती है, या फिर पूजा में कोई खामी या गलती का संकेत। यदि दीपक में तेल कम है, तो वह बुझ सकता है। यदि पूजा के स्थान पर तेज हवा चल रही है, तो दीपक बुझ सकता है। यदि दीपक की बत्ती खराब है, तो वह बुझ सकती है।
  • कुत्तों और बिल्लियों को अक्सर छठी इंद्रिय वाला माना जाता है, जिसके कारण वे भविष्य की घटनाओं का आभास लगा सकते हैं। यदि आपका पालतू कुत्ता या बिल्ली अचानक रोने लगे या घर के आसपास कुत्ते-बिल्ली रोते हुए सुनाई दें, तो यह किसी बुरी घटना का पूर्व संकेत माना जा सकता है। यदि कुत्ता या बिल्ली डरा हुआ या असुरक्षित महसूस कर रहा है, तो वह रो सकता है। यदि कुत्ता या बिल्ली बीमार या घायल है, तो वह रो सकता है।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News