किताब में रखें मोरपंख, बरसेगी श्रीकृष्ण की कृपा, बनेंगे सफलता के योग, बस रखें इन 4 बातों का खास ख्याल 

Benefits Of Keeping Morpankh in Book

Benefits Of Keeping Morpankh in Book: किताब में मोरपंख रखने की परंपरा काफी पुरानी है। प्राचीन काल में भी छात्र अपने किताबों में मोरपंख रखा करते हैं। आज के दौर में भी कई लोग पुस्तकों में मोरपंख रखते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किताब में मोरपंख रखने कई फायदे होते हैं। सनातन धर्म में मोरपंख को भगवान श्रीकृष्ण का प्रतीक माना जाता है। मान्यताएं हैं जो भी व्यक्ति अपने बुक में मोरपंख को सही तरीके से रखता है, उसपर गोविंद मेहरबान होते हैं। हालांकि किताब में मोरपंख रखते समय कुछ बातों का खास ख्याल रखना होता है। आपकी छोटी-सी लगती भारी पड़ सकती है।

किताब में मोरपंख रखने के फायदे

  • किताब में मोरपंख रखने विद्या में आ रही बाधाएं दूर होती है। करियर में लाभ होता है।
  • श्रीकृष्ण की कृपा से जीवन में सफलता के योग बनते हैं।
  • किताब में मोरपंख रखने से पढ़ाई में मन लगता है। नकरात्मक ऊर्जा से मुक्ति मिलती है।
  • अज्ञान का अंधकार दूर होता है। बुद्धि में वृद्धि होती है।

किताब में मोरपंख रखते समय रखें इन बातों का ख्याल

  • किताब में मोरपंख रखते समय ध्यान दें कि मोरपंख साबुत और डंडी के साथ हो। खंडित मोरपंख रखना अशुभ माना जाता है।
  • किताब में रखा जाने वाला मोरपंख मुड़ा हुआ नहीं होना चाहिए।
  • खिले मोरपंख को ही बुक में रखें।
  • मोरपंख स्वच्छ होना चाहिए। किसी वजह से यदि यह जमीन पर गिर जाए तो इसे धोकर किताब में रखें।

(Disclaimer: इस आलेख का उद्देश्य केवल सामान्य जानकारी साझा करना है, जो ग्रंथों, मान्यताओं और विभिन्न माध्यमों पर आधारित है। MP Breaking News इन बातों के सत्यता और सटीकता की पुष्टि नहीं करता।) 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News