Rituals: पूर्वजों की नाराजगी से बिगड़ जाते हैं बनते हुए काम, जानें कैसे करें प्रसन्न

Rituals: हिंदू धर्म में, पितरों को सदैव स्मरण रखा जाता है और उनका सम्मान किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि पितरों का आशीर्वाद जीवन में सुख-समृद्धि और सफलता लाता है। उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए अनेक अनुष्ठान और उपाय किए जाते हैं।

pitra

Rituals: हिंदू धर्म में, पितरों का स्मरण और उनका सम्मान एक महत्वपूर्ण परंपरा है। यह माना जाता है कि हमारे पूर्वज, जिन्हें पितृ कहा जाता है, हमारे जीवन पर गहरा प्रभाव डालते हैं। उनका आशीर्वाद सुख-समृद्धि, सफलता और जीवन में सकारात्मकता लाता है, वहीं दूसरी ओर, उनका कोप अशांति और कष्टों का कारण बन सकता है। इसलिए, हिंदू धर्म में पितरों को प्रसन्न रखने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए कई अनुष्ठान और उपाय बताए गए हैं।

इन अनुष्ठानों में सबसे महत्वपूर्ण है श्राद्ध और तर्पण करना, जो अमावस्या तिथि को किया जाता है। यह प्रथा पितरों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने और उनके ऋण चुकाने का एक तरीका है। इसके अलावा, दान-पुण्य करना, पितृ पक्ष में उनका विशेष स्मरण करना, पितृ गायत्री मंत्र का जाप करना और पितृ मंदिरों में जाकर पूजा-अर्चना करना भी पितरों को संतुष्ट करने के कारगर उपाय हैं।

पितृ संतुष्टि का फल केवल पारलौकिक सुख ही नहीं बल्कि सांसारिक जीवन में भी सफलता है। ऐसा माना जाता है कि पितरों का आशीर्वाद करियर में तरक्की, धन-दौलत और संतान प्राप्ति में सहायक होता है। इसके साथ ही, पितृ दोष से मुक्ति मिलती है, जिससे जीवन में आने वाली बाधाएं कम होती हैं और सकारात्मकता का संचार होता है। अतः, यह स्पष्ट है कि पितरों का सम्मान करना और उनका स्मरण रखना न केवल हमारी संस्कृति का एक अहम हिस्सा है बल्कि यह हमारे जीवन में खुशहाली और सफलता पाने का भी एक मार्ग है।

पितरों का आशीर्वाद पाने के लिए क्या-क्या उपाय करने चाहिए

  1. हिंदू धर्म में, पीपल के पेड़ को देव वृक्ष मानते हैं और पितरों को प्रसन्न करने के लिए इसका पूजन किया जाता है। प्रतिदिन सूर्योदय से पहले या शाम को पेड़ को जल देना और उसकी परिक्रमा करना पितृ दोष कम करने का सरल उपाय है। ऐसा माना जाता है कि इससे पितर प्रसन्न होते हैं, उनका आशीर्वाद मिलता है और जीवन में सकारात्मकता आती है।
  2. पितरों को खुश रखने के लिए दक्षिण दिशा में अर्घ्य देना एक उत्तम उपाय है। सुबह स्नान के बाद तांबे या पीतल के लोटे में जल, काले तिल, जौ और कुश डालकर दक्षिण दिशा की ओर मुख करके सूर्यदेव और पितरों का ध्यान करें। मंत्रों का जाप करते हुए उन्हें अर्घ्य दें। यह सरल विधि पितृ दोष कम करती है, उनका आशीर्वाद दिलाती है और जीवन में सुख-शांति लाती है।
  3. दक्षिण दिशा में जल अर्पित कर पितरों को खुश रखा जा सकता है। प्रतिदिन सुबह स्नान के बाद तांबे या पीतल के लोटे में काले तिल, जौ और कुश डालकर दक्षिण मुख करके खड़े हों। सूर्यदेव और पितरों का ध्यान करते हुए मंत्रों का जाप करें और उन्हें जल अर्पित करें। यह सरल विधि पितृदोष कम करती है, उनका आशीर्वाद दिलाती है और जीवन में सुख लाती है।
  4. पितृदोष से मुक्ति के लिए संध्या जप का विशेष महत्व है। शाम को सूर्यास्त के बाद आचमन कर तेल का दीपक जलाएं। “ॐ नमः पितृभ्यो नमः” मंत्र का जाप करते हुए दीपक को दक्षिण दिशा में रखें। छत पर या घर के बाहर यह दीप जलाने से पितृ प्रसन्न होते हैं, उनका आशीर्वाद मिलता है और जीवन में सकारात्मकता आती है।

    (Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।