14 अक्टूबर को होगी इस साल की आखिरी शनि अमावस्या, इन 3 राशि को शनि देव के प्रकोप से मिलेगी राहत

Sanjucta Pandit
Published on -
Shani 2024

Shani Amavasya 2023 : हिंदू धर्म में अमावस्या का दिन महत्वपूर्ण होता है। इसे विभिन्न पूजा और श्राद्ध की रस्मों के लिए उपयुक्त माना जाता है। अमावस्या के दिन पितृ (पूर्वजों) की आत्मा की शांति और तृप्ति के लिए पितृ तर्पण का आयोजन किया जाता है, जिसे “अमावस्या श्राद्ध” कहा जाता है। कालसर्प दोष निवारण की पूजा भी अमावस्या के दिन की जाती है, क्योंकि शास्त्रों में कालसर्प दोष को दूर करने के लिए एक अच्छा समय माना गया है। वहीं, शनिश्चरी अमावस्या जिसे शनिवार के दिन आने वाली अमावस्या के रूप में जाना जाता है इस साल 14 अक्टूबर को है जो कि आखिरी शनि अमावस्या होगी। इस दौरान जिन लोगों पर शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या चल रही है उन्हें पूजा और उपाए करना चाहिए। साथ ही इन राशियों के जातकों पर से शनि देव का प्रकोप भी खत्म हो जाएगा। आइए जानें विस्तार से…

मुहूर्त

  • 13 अक्टूबर 2023 को रात 09 बजकर 50 मिनट पर शुरू
  • 14 अक्टूबर 2023 को रात 11 बजकर 24 मिनट पर समापन

मेष राशि

शनिश्चरी अमावस्या के दौरान मेष राशि के जातकों को शनि देव के बुरे प्रकोप से छुटकारा मिल जाएगा। इसके लिए उन्हें पितृ (पूर्वजों) की आत्मा की शांति और तृप्ति के लिए पितृ तर्पण का आयोजन करना है। साथ ही शनि मंदिर में रात के समय तिल के तेल वाला दीपक जलाना है। ध्यान रहे जिस वक्त आप पूजा करें शनि देव की दृष्टि पड़ने से बचें। प्रसाद को घर के बाहर खाएं और जल छिड़कर ही घर के अंदर प्रवेश करें। इससे शनि देव प्रसन्न हो जाएंगे।

तुला राशि

यह समय तुला राशि के जीवन में नया मोड़ लाने वाला है। इस दौरान शनि देव आपसे प्रसन्न होकर आपको अपने बुरे प्रभाव से मुक्त कर देंगे। इस दिन आपको शनि देव की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना करनी है। बड़ों से सलाह लेकर आगे कोई भी कार्य करें।

Continue Reading

About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।