Google Chrome यूजर्स को सरकार ने दी चेतावनी, चोरी हो सकता है आपका डेटा, बचाव के लिए करें ये काम

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Google Chrome Users Alert: दुनियाभर में करीब 3 बिलियन यूजर्स गूगल क्रोम का इस्तेमाल करते हैं। यदि आप भी इस ब्राउजर का इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए बड़ी खबर सामने आई है। भारत सरकार के एजेंसी कंप्यूटर इमरजेन्सी रिस्पॉन्स टीम ने उपभोक्ताओं को चेतवानी दी है। साथ ही साइबर अपराध से बचने के लिए सलाह दी है। CERT-In ने कहा कि कुछ खामियों की वजह से कोई अटैकर दूर से ही अपने सिस्टम को टारगेट बना सकते हैं और यूजर्स का डेटा चुरा सकते हैं।

एजेंसी ने क्या कहा?

एजेंसी ने बताया कि गूगल क्रोम में पाँच खामियाँ देखी गई हैं। जिसका फायदा उठाकर रिमोट अटैकर उठाकर आर्बिटरेरी कोड रन कर सकते हैं और डिनायल ऑफ सर्विस को भी शिकार बना सकते हैं। साथ ही यूजर्स का डेटा चुरा सकते हैं। जिसमें आपका पर्सनल डेटा (जैसे की बैंक, एटीएम पिन इत्यादि) शामिल हैं। शोध में पाया गया है कि आउट ऑफ मेमोरी ऐक्सेस के जरीए यूजर्स डेटा चुरा सकते हैं। इन खामियों का असर Mac, Windows और Linux जैसे प्लेटफ़ॉर्म पर भी हुआ है। गूगल ने खामियों को फिक्स करके नए सिक्योरिटी पैचेज रिमूव कर दिया है।

बचाव के लिए करें ये काम

अटैकर्स से बचने के लिए गूगल ने सभी “Chrome” यूजर्स को ब्राउजर अपडेट करने की सलाह दी है। Windows के 116.0.5845.110/.111 वर्ज़न में ये खामियाँ नहीं है। वहीं Mac और Linux के लिए 116.0.5845.110 वर्ज़न सही होगा। इसके अलावा गूगल ने ययुजर्स को किसी भी अनजान वेबसाइट पर न जाने और अनजान लिंक पर क्लिक न करने की सलाह दी है।

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News