WhatsApp ने एक महीने में बैन किए 29 लाख से अधिक अकाउंट, ये है वजह, पढ़ें पूरी खबर

WhatsApp Accounts Banned: व्हाट्सऐप का इस्तेमाल दुनिया भर लाखों लोग करते हैं। यह मैसेजिंग ऐप कई सुविधाओं का लाभ देता है। यूजर्स की सुरक्षा का ख्याल रखते हुए यह प्लेटफ़ॉर्म कई सख्त एक्शन भी लेता रहता है। हाल ही में जारी हुई रिपोर्ट के मुताबिक व्हाट्सऐप ने 29 लाख से अधिक भारतीय यूजर्स के अकाउंट को बैन किया है। यह आँकड़े 1 जनवरी से लेकर 31 जनवरी तक के हैं। बता दें आईटी अधिनियम 2021 के तहत हर महीने 50 लाख से अधिक यूजर्स वाले सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म को सरकार को एक सेफ़्टी यूजर रिपोर्ट देनी होती है।

ये है वजह

व्हाट्सऐप ने यह कदम यूजर्स की शिकायतों के आधार पर उठाया है। कंपनी ने बताया कि उनतक भारत से 1,461 शिकायते मिली थी। जिसके बाद 145 शिकायतों पर एक्शन किया गया। भारत में 500 मिलियन यूजर्स हैं। व्हाट्सऐप प्रवक्ता ने कहा कि, “आईटी नियम 2021 के अनुसार हमारे द्वारा जनवरी 2023  की रिपोर्ट पब्लिश कर दी गई है। इस रिपोर्ट में यूजर्स की शिकायतों और कंपनी द्वारा की गई कार्रवाई के साथ व्हाट्सऐप द्वारा अपनी  निरोधात्मक कारवाई भी शामिल है।”

शिकायत अपीलीय कमेटी का गठन

बता दें कि दिसंबर 2022 में करीब 36 लाख अकाउंट को बैन किया गया था, जो जनवरी 2023 के तुलना में बहुत ज्यादा था। नए रिपोर्ट के मुताबिक कुल 29,18,000 अकाउंट बैन किए गए हैं। जिसमें 10,38,000 अकाउंट को यूजर्स की तरफ से रिपोर्ट मिलने के पहले ही प्रतिबंधित कर दिया गया था। वहीं भारत सरकार ने सोशल मीडिया यूजर्स की सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए शिकायत अपीलीय कमेटी (Grievance Appellate Committe) का गठन किया है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News