ककड़ी बनी विवाद का कारण, दो गुटों में खूनी संघर्ष, डंडे-फर्सों से एक दूसरे पर किया हमला

भोपाल। बैरसिया थाना इलाके में कोट कार्यक्रम में राजगढ़ से शामिल होने आए कुछ युवकों ने कल जमकर हंगामा किया। आरोपी नशे में धुत थे और एक ठेले पर ककड़ी खरीदने पहुंचे थे। बदमाश ककड़ी वाले को रेट से अलग हटकर अपनी मर्जी से कम दाम दे रहे थे। जिसका ठेले वाले ने विरोध किया तो आरोपियों ने उसकी धुनाई की और ठेले को पलटा दिया। बचाव में गांव का एक युवक आया तो हमलावरों ने उसको जलती हुई लकड़ी मार दी, जिससे वह गंभीर जख्मी हो गया। गांव के युवकों को पिटता देख अन्य लोगों ने बाहर से आए हुड़दंगकियों की हथियारों से लैस होकर धुनाई कर दी। विवाद के दौरान दोनों पक्षों से आधा दर्जन लोगों को चोटे आई हैं। घायलों में तीन लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। सभी का उपचार हमीदिया अस्पताल में चल रहा है। पुलिस ने दोनों पक्षों की शिकायत पर प्रकरण दर्ज कर लिया है। 

पुलिस के अनुसार सोनू कुशवाह पिता बिहारीलाल कुशवाह (25) गांव तरावली कला में रहता है। सोनू का कहना है कि वह तरावली मंदिर के पास ककड़ी का ठेला लगाता है। गुरुवार शाम को वह दुकान पर था, तभी वहां तीन लोग आए थे। सभी शराब के नशे में धुत थे। तीनों ने ककड़ी मांगी और खाने लगे। जब रुपए की बात आई तो विवाद करने लगे। रुपए मांगने पर बदमाशों ने उसका ठेला पलटाते हुए मारपीट शुरू कर दी। इस बीच बीच बचाव करने सिद्धा पहुंचा था। सिद्धा ने समझाइश देनी चाही तो आरोपियों ने उस पर चूल्हे की जलती हुई लकड़ी से हमला कर दिया। विवाद बढ़ता देख गांव के राधेश्याम ने भी सोनी और सिद्धा की मदद की। नतीजतन धीरज, गोपाल, फूलसिंह और मूलचंद ने तीनों से मारपीट शुरू कर दी। देखते ही देखते दोनों पक्ष आमने सामने हो गए और चूल्हे की लकड़ी से मारपीट होने लगी। पुलिस ने उक्त मामले में सोनू कुशवाह की शिकायत पर धीरज, गोपाल, फूलसिंह और मूलचंद पर हत्या के प्रयास समेत मारपीट और अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है, जबकि धीरज की शिकायत पर सोनू कुशवाह और राधेश्याम पर मामला दर्ज किया है। फिलहाल किसी की भी गिरफ्तारी नहीं की जा सकी है।

"To get the latest news update download the app"