Breaking News
चुनाव से पहले शिवराज पुत्र राजनीति में सक्रिय, कांग्रेस नेताओं को बताया राजनैतिक मेंढक | मानसून सत्र छोटा रख सदन में चर्चा से बचना चाह रही शिवराज सरकार : कमलनाथ | नेता प्रतिपक्ष ने विधानसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र! | VIDEO : अविश्वास की आरोप कथा, अर्जुन सिंह को दी गयी नशीली दवाएं ? | फर्जी पासपोर्ट मामला : एयरपोर्ट से पकड़ाया नाइजीरियन नागरिक दोषी करार, कोर्ट ने सुनाई सजा | बिजली कर्मचारियों की चेतावनी -10 दिन में नियमित करो, नही तो करेंगें प्रदेशभर में काम बंद | कलेक्टर को देख भागे रेत माफिया..! | MP : 11 हजार करोड़ का अनूपूरक बजट विधानसभा में पेश, मंगलवार को होगी चर्चा | दीपिका कुमारी ने रचा इतिहास, 6 साल बाद भारत को दिलाया वर्ल्ड कप में गोल्ड | पहल बनी मिसाल : ये स्कूल हुआ तम्बाकू मुक्त, बच्चे करते हैं निगरानी |

तेलंगाना का चना बिक रहा मध्यप्रदेश में... हरदा में कलेक्टर ने की कार्रवाई

हरदा| समर्थन मूल्य पर चने की खरीदी को लेकर मध्य प्रदेश के किसानों को भले ही लंबी लाइन लगानी पड़ रही हो और इस इंतजार में कुछ किसानों को अपनी जान गवानी पड़ रही हो लेकिन मुनाफाखोर और बिचौलिए तेजी के साथ इस कारोबार में सक्रिय हो गए हैं । 

दरअसल राज्य सरकार चने को 4400रू प्रति क्विन्टल समर्थन मूल्य पर तो खरीदी रही है 100 बोनस अलग से दिया जा रहा है ।इसी लालच में बाहर के व्यापारी, बिचौलिए और मुनाफाखोर मध्य प्रदेश के व्यापारियों के साथ मिलकर चने में खेल कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला हरदा जिले में पकड़ा गया जब संदेह होने पर कलेक्टर अनय द्विवेदी ने भाजपा के उपाध्यक्ष और पूर्व मंडी अध्यक्ष पहलाद पटेल के भाई प्रेम नारायण पटेल के यहां छापा पङवाया और छापे में 250 कुंटल चना जप्त किया गया। यहां तक तो सब ठीक था लेकिन जब चने की बोरियों को देखा गया तो सबकी आंखें फटी रह गई ।दरअसल जिन बोरियों में चना पैक था वह छत्तीसगढ़ विपणन संघ, महाराष्ट्र और तेलंगाना राज्य की थी। प्रशासन को शक है कि इस पूरी कारगुजारी में इन तीनों राज्यों के सार्वजनिक वितरण प्रणाली का चना लाकर यहां पर बेचा जा रहा है। जाहिर सी बात है कि इस गोरखधंधे में तीनों राज्यों के साथ मध्य प्रदेश के कुछ अधिकारी भी शामिल है ।फिलहाल कलेक्टर के निर्देश पर यह एआरसीएस छविकांत बाघमारे ने यह कठोर कार्रवाई तो की ही ,किसान के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज करा दी गई है और प्रशासन इस पड़ताल में जुट गया है कि आखिरकार चना आया तो कहां से।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...