दिग्गी समर्थकों का पलटवार: "महाराजा" के महल गेट पर "राजा" के पोस्टर

 ग्वालियर। अतुल सक्सेना पार्टी में गुटबाजी नहीं होने के दावे करने वाली कांग्रेस में जब भी "महाराजा" और "राजा" की बात होती है इसकी हकीकत सामने आ जाती है। ग्वालियर में आज इसका उदाहरण फिर देखने को मिला। जिसने स्पष्ट कर दिया कि "महाराजा" के गढ़ में "राजा" का दख़ल कितना बढ़ गया है। 

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह यानि "राजा साहब" आज ग्वालियर दौरे पर हैं । दिग्विजय समर्थकों ने उनके स्वागत में शहर को पाट दिया, लेकिन एक होर्डिंग सबसे ज्यादा चर्चा में रही। दरअसल ये होर्डिंग जयविलास पैलेस के नदी गेट के बाहर लगा है, जिसमें दिग्गी राजा का बड़ा सा फोटो लगाकर उनका स्वागत किया गया है । यहाँ समझने वाली बात ये है कि "महाराजा"  यानि ज्योतिरादित्य सिंधिया के महल के गेट के बाहर इसे क्यों लगाया गया। 

बता दें कि ये वही जगह है जहां कुछ समय पहले सिंधिया समर्थकों ने दिग्विजय के खिलाफ होर्डिंग लगाया था । सिंधिया समर्थकों ने सोनिया को संबोधित करते हुए होर्डिंग पर लिखा था कि एक मछली पूरे तालाब को गन्दा कर रही है। उस दौरान मंत्री उमंग सिंघार का विवाद भी चर्चा में था| जिसके बाद काफी बवाल भी हुआ| अब इस होर्डिंग को देखने वाले भी यही कह रहे हैं कि दिग्विजय समर्थकों ने महल गेट पर अपने राजा का होर्डिंग लगा कर उनके अपमान का बदला लिया है । उधर ग्वालियर चंबल संभाग में दिग्विजय सिंह के बढ़ते दखल पर सिंधिया की नजर भी बनी हुई है इसीलिए महाराष्ट्र चुनाव की व्यस्तता के बीच सिंधिया ने भी 8 अक्टूबर से 12 दिनों तक ग्वालियर अंचल में दौरे का कार्यक्रम बनाया है । इस बीच सिंधिया भिंड, मुरैना , शिवपुरी भी जाएंगे। बहरहाल कांग्रेस के दो बड़े नेताओं के अपने ही अंचल में बढ़ते दखल का कोई विशेष लाभ मिलता दिखाई नहीं दे रहा। राजनीति की द्रष्टि से देखें तो दिग्विजय की सक्रियता से हाशिये पर पड़े दिग्गी समर्थकों को संजीवनी मिल गई है लेकिन जनता को विकास के नाम पर अब तक  कुछ ख़ास नहीं मिला।

दिग्विजय समर्थकों ने लगाई ये होर्डिंग 


सिंधिया समर्थकों ने लगाई थी ये होर्डिंग