Bank FD: 31 मार्च तक उठा लें इन 4 स्पेशल FD स्कीम का लाभ, मिल रहा है तगड़ा ब्याज, कहीं छूट न जाए मौका

Bank FD Schemes: 1 अप्रैल से कई नई योजनाएं शुरू हो रही हैं। वहीं कुछ बंद होने वाली है। कई सरकारी और वित्तीय नियमों में बदलाव होने जा रहा है। वर्तमान में कई बैंकों द्वारा स्पेशल एफडी स्कीम चलाई जा रही है। जिसमें सुरक्षित रिटर्न के साथ शानदार ब्याज भी मिल रहा है। लेकिन 31 मार्च तक ही ग्राहक इस स्कीम्स का लाभ उठा सकते हैं। उसके बाद ये योजनाएं बंद हो जाएंगी। फिक्स्ड डिपॉजिट को बचत के लिए अच्छा विकल्प माना जाता है। यदि आप भी एफडी में निवेश करने मुनाफा कमाने चाहते हैं तो यह खबर आपके काम आ सकती है।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया अमृत कलश डिपॉजिट

कल अमृत कलश डिपॉजिट बंद हो जाएगी। यह एसबीआई की खास फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम है। जिसके तहत समान्य ग्राहकों को 7.1 फीसदी और वरिष्ठ नागरिकों को 7.6 फीसदी का ब्याज मिलता है। यह 400 दिनों की स्कीम है, जिसकी शुरुआत 15 फरवरी से की गई थी। मैच्योरिटी होने पर 1 लाख की जमा राशि पर 8,017 रुपये ब्याज मिलता है। वहीं वरिष्ठ नागरिकों को 8,600 रुपये ब्याज मिलता है।

पंजाब एंड सिंध बैंक

पंजाब एंड सिंध बैंक ने 222 दिनों वाली खास एफडी स्कीम शुरू की थी, जो 31 मार्च को बंद होने वाली है। पीएसबी-उत्कर्ष योजना पर अधिकतम 8.85 फीसदी का ब्याज मिल रहा है।

एचडीएफसी बैंक

HDFC Bank ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए “सीनियर सिटीजन केयर स्कीम” शुरू की है, जो कल बंद हो जाएगी। 75 महीने की इस योजना पर 7.75% ब्याज मिल रहा है। योजना के तहत 2 करोड़ रुपये का इनवेस्टमेंट किया जा सकता है।

इंडियन बैंक स्कीम

इंडियन बैंक ने 555 दिनों के लिए “IND SHAKTI 555 Days स्कीम” शुरू की थी। जिसके तहत बैंक 5,000 रुपये-2 करोड़ रुपये के निवेश पर 7.50 फीसदी ब्याज दे रहा है। स्कीम लाभ 31 मार्च तक उठाया जा सकता है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News