मध्यप्रदेश में अब नहीं होंगी रैगिंग की घटनाएं, गर्ल्स हॉस्टलों की निगरानी करेगा महिला आयोग

भोपाल। मध्यप्रदेश मे छात्रावासों में बढ़ रही रैगिंग की घटनाओं से अब राज्य महिला आयोग सतर्क हो गया है। वह अब प्रदेश के गर्ल्स हॉस्टलों पर निगरानी रखने वाला है। आयोग एक कमेटी का गठन करेगा, जो हॉस्टलों का औचक निरीक्षण कर यह देखेगी कि छात्राएं सुरक्षित हैं या नहीं। उन्हें किसी प्रकार की प्रताड़ना तो नहीं सहनी पड़ रही है।\r\n\r\nआयोग ने छात्रावास अधिनियम के विशेषज्ञ मदनलाल जाटव की नियुक्ति के लिए आदिमजाति कल्याण मंत्री ज्ञान सिंह को पत्र लिखा था, जिस पर उनकी सहमति मिल गई है। सागर में महिला आश्रम के प्राचार्य रह चुके मदनलाल जाटव छात्रावास निरीक्षण कमेटी में सदस्य के तौर पर शामिल होंगे। कमेटी में एक महिला काउंसलर, एक आयोग सदस्य और एक प्रायवेट छात्रावास विशेषज्ञ शामिल होंगे। कमेटी प्रदेशभर के गर्ल्स हॉस्टलों का औचक निरीक्षण कर सुनिश्चित करेगी कि इनमें छात्राएं सुरक्षित हैं या नहीं। उनके साथ किसी तरह की रैगिंग तो नहीं हो रही। हॉस्टल में सफाई का कितना ख्याल रखा जा रहा है। छात्राओं को किसी प्रकार की प्रताड़ना तो नहीं सहनी पड़ रही है।

"To get the latest news update download the app"