Breaking News
व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! | अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित |

बड़े-बड़े दावे करने वाले शिवराज बतायें, प्रदेश के किसानों पर कुल कितना कर्ज : कमलनाथ

भोपाल।

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज के कर्ज माफी पर दिए गए बयान  ‘‘कर्ज माफी पटवाजी की सरकार के समय भी हुई थी, यह मात्र छलावा है“ को लेकर कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा है कि शिवराज ने ऐसा बयान देकर अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेता व अपने राजनैतिक गुरु दिवंगत पटवाजी का अपमान किया है। ऐसा कहकर कर्ज के बोझ तले दबकर आत्महत्या करने वाले किसानों का भी वो मजाक उड़ा रहे हैं।उन्होंने आगे कहा कि शिवराज जी से मेरा आपसे एक सवाल है कि ये बतायें कि प्रदेश के किसानो पर आपकी सरकार के पूर्व कुल कितना कर्ज था व आज कितना कर्ज है। कर्ज के बोझ तले आत्महत्या करने वाले किसानो की संख्या पूर्व में कितनी थी और आज कितनी है।

कमलनाथ ने कहा कि शिवराज जी का यह कहना है कि कर्नाटक की कांग्रेस सरकार द्वारा कर्ज माफी की घोषणा के बाद भी वहां कांग्रेस नंबर 2 पर आई और लोकप्रियता नहीं मिली, लेकिन मैं आपको बता दूं कि वहां भी कांग्रेस सरकार ने ना तो चुनाव जीतने के लिये और ना ही लोकप्रियता के लिये यह निर्णय लिया। प्रदेश में भी कांग्रेस की सरकार बनने पर भी किसानो के कर्ज माफी की घोषणा का निर्णय किसानों को दयनीय अवस्था से निकालने के लिये लिया गया है, कर्ज के बोझ से बढ़ती आत्महत्याओं की घटनाओं को रोकने के लिये लिया गया है। कांग्रेस शिवराज की तरह हर निर्णय चुनावी फायदे के लिये व लोकप्रियता को देखकर नहीं लेती है।

 नाथ ने कहा कि शिवराज कह रहे है कि हम कर्ज माफी नहीं करेंगे, हम किसानो के नाम पर चल रही योजनाओं में पैसा देंगे, तो वो इसलिये कि किसानों के नाम पर चल रही तमाम योजनाओं में जमकर भ्रष्टाचार व घोटाले हो रहे हैं, यदि कर्ज माफी कर दी, तो उसमें भ्रष्टाचार व घोटाले की कोई गुंजाइश नहीं मिलेगी। शिवराज सरकार में पूर्व में प्याज-दाल खरीदी हो, वर्तमान में समर्थन मूल्य पर खरीदी हो, भावन्तर योजना हो, सभी में भ्रष्टाचार के मामले दिन-प्रतिदिन सामने आ रहे हैं। वेसे भी शिवराज सरकार ने जितना पैसा अपने प्रचार-प्रसार, यात्राओं, अभियानों आयोजनो पर खर्च किया है, उतने में तो किसानो का भला किया जा सकता था।

उन्होंने कहा कि आयोजन प्रेमी प्रदेश के मुखिया, आज भी गेहूँ की प्रोत्साहन राशि किसानो को बाँट रहे है तो अपनी पार्टी के लोगों से आयोजन कर होली-दिवाली मनाने का कह रहे हैं। जहाँ एक तरफ किसान अपने हक की माँग को लेकर सड़कों पर आंदोलन कर रहा है, निरंतर कर्ज के बोझ से आत्महत्या कर रहा है, मंदसौर गोलीकांड में मृत किसानो की बरसी मना रहा है, उनके लिये न्याय माँग रहा है, ऐसे समय भाजपा के लोगों से किसान पुत्र शिवराज होली-दिवाली मनाने की बात कह रहे हैं। बगैर आयोजन के यह सरकार किसी को भी एक रुपया नहीं देती है और ना ही कोई कार्य करती है। प्रदेश में एक तरफ किसान प्रतिदिन कर्ज के बोझ से आत्महत्या कर रहे हैं, वही शिवराजसिंह दावा करते हैं कि उन्होंने किसानों के खातों में हजारों करोड़ रूपये डाले हैं। 

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...