बंद के दौरान हिंसा में शामिल पुलिस आरक्षक विनित मोर्य निलंबित, वीडियो से हुई पहचान

मुरैना।

बीते दिनों भारत बंद के दौरान हिंसा फैलाने वालों में संलिप्तता पाये जाने के कारण मुरैना के एक आरक्षक को निलंबित कर दिया गया है।वही आरक्षक पर केस भी दर्ज किया गया है। आरोप है कि अजाक थाने में पदस्थ आरक्षक विनित मोर्य आंदोलन के दिन सिविल ड्रेस में उपद्रवियों के साथ पटरी उखाड़ने में मदद कर रहा था।यह कार्रवाई अजाक थाना एसपी आदित्य प्रताप सिंह द्वारा वीडियो की जांच सामने आने के बाद की गई है।

दरअसल, बीते दिनों बंद के दौरान एमपी के मुरैना में जमकर हिंसा हुई थी। उपद्रवियों ने ना सिर्फ पटरियों को उखाड़ा बल्कि शहरभर में भी जमकर तोड़फोड़ की । इस हिंसा में तीन लोगों की मौत भी हो गई थी। घटना के बाद जांच के लिए जीआरपी थाने में सैकड़ों लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। साथ वीडियो के आधार पर उनकी जांच की गई थी। वीडियो में विनित सिविल ड्रेस में उपद्रवियों के साथ पटरी उखाड़ते दिख रहा है। वह उपद्रवियों के साथ छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस रोकने एवं पटरी उखाड़ने के बाद ड्यूटी देने थाने पहुंच गया था। शुक्रवार को सस्पेंड होने के बाद से सिपाही ड्यूटी से गायब है। उल्लेखनीय है कि उपद्रवियों ने रेलवे की दो करोड़ की संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था।