Breaking News
अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग |

दिव्यांग से घूस मांगने वाला डॉक्टर स्वास्थ्य मंत्री के प्रभार वाले जिले का सीएमएचओ

भोपाल। मप्र सरकार की जीरो टॉलरेंस की नीति सिर्फ कागजों और भाषणों तक है। जबकि जमीनी हकीकत यह है कि भ्रष्ट नौकरशाह  सरकार के चहेते अफसर बन गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने जीरो टॉलरेंस की तमाम दलीलों को दरकिनार कर ऐसे डॉक्टर अर्जुन लाल शर्मा को स्वास्थ्य मंत्री  रुस्तम सिंह के प्रभार वाले जिले शिवपुरी का चिकित्सा अधिकारी बनाया है, जिस पर दिव्यांग से 5 हजार की घूस लेने का आरोप है। लोकायुक्त ने डॉक्टर अर्जुन लाल शर्मा के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला भी दर्ज किया है। 

स्वास्थ्य विभाग ने भ्रष्टाचार के मामले में लोकायुक्त जांच में दोषी पाए गए डॉक्टर अर्जुन लाल शर्मा को शिबपुरी जिले का प्रभारी जिला स्वास्थ्य अधिकारी बनाया गया है । डॉक्टर अर्जुन लाल को विकलांग प्रमाण पत्र बनाने के नाम  पांच हजार की रिस्वत मांगे जाने के मामले में लोकायुक्त पुलिस ने आरोपी बनाया था। लोकायुक्त ग्वालियर पुलिस इंस्पेक्टर कवींद्र चौहान के अनुसार डॉक्टर अर्जुन लाल शर्मा जांच में दोषी पाए गए हंै और लोकायुक्त ने शासन से डॉक्टर के खिलाफ  चालान पेश करने की अनुमति मांगी है । अर्जुनलाल शर्मा पर अपराध क्रमांक 68/17 एवं धारा 7 भरस्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज है । खास बात यह है कि शर्मा को शिवपुरी जिले का स्वास्थ्य अधिकारी स्वास्थ्य मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री रुस्तम सिंह की सहमति से ही बनाया गया है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...