देश में पहली बार अनोखी 'भुतहा रैली', सड़क पर नजर आये राजनीति के डरावने चेहरे

भोपाल| 'क्या हुआ जो मुझ पर महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा के आरोप हैं, आप हमें चुनो तो सही, महिला नीति तो हम ही बनायेंगे', 'मुझ पर ह्त्या/डकैती के आरोप हैं 

आप हमे चुनो तो सही समाज को सुरक्षित रखने का जिम्मा हमारा', 'थोड़े बहुत आपराधिक प्रकरण नहीं दर्ज हुए तो फिर हम नेता कैसे ...?', बलात्कार/दुष्कर्म के आरोप हैं हम पर, आप हमें चुनो तो सही हम महिलाओं को सुरक्षित रखेंगे' और 'हम लोकतंत्र में भरोसा रखते हैं इसलिये लोक को एक जेब में और तंत्र को एक जेब में रखते हैं' कुछ इस तरह की तख्तियां हाथ लिये भुतहा परिधानों में करीब  200 युवा साथियों ने मध्यप्रदेश इलेक्शन वाच और एडीआर के संयुक्त तत्वाधान में एक हेलोईन (भुतहा) रैली का आयोजन रविवार को किया। यह संभवत: भारत देश की इस तरह की पहली रैली है जिसमें युवाओं ने आगे आकर न केवल अनिवार्य रूप से वोटिंग की अपील की बल्कि नैतिक रूप से उम्मीदवारों को चुनने का सन्देश भी दिया। यह रैली अपने आप में पहली बार होने वाली अनोखी रैली थी जब राजनीति के भूतों को डरावने चेहरों के द्वारा दिखाया गया। 


भूतों को चरित्र से जोड़ा 

इस रैली की संयोजिका और एडीआर की मध्यप्रदेश समन्वयक रोली शिवहरेे ने कहा कि यह भारतीय राजनीति के डरावने चेहरे हैं और आम जन को इस तरह के भुतहा परिधान और चरित्रों के माध्यम से आगाह और सचेत करना चाहते हैं कि यदि राजनीति को बेहतर करना है तो हमें उम्मीदवारों (शिक्षा, आपराधिक रिकार्ड, संपत्ति आदि) के विवरण जरूर देखने चाहिए। उन्होंने यह भी बताया कि हमारा एक मोबाइल एप है, जिसका नाम माय नेता  है उसे आम मतदाता गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर अपने विधानसभा क्षेत्र के उमीदवारों का विवरण देख सकता है।


वोट से पहले उम्मीदवार का विवरण जरूर देखें

 ने इस रैली के विषय में बताते हुए कहा कि आज भी लोग वोट करने के पहले उम्मीदवारों के विवरण को नहीं देखते हैं और जातिगत और दलगत आधार पर वोट करते हैं, जो कि गलत है। हम इस रैली में उपयोग किये गए व्यंग्यात्मक संदेशों के माध्यम से यह बनाना चाहते हैं कि आज भी आम मतदाता सचेत नहीं हुआ तो फिर इस तरह के नेता, जिन पर आपराधिक प्रकरण दर्ज है, चुन कर विधानसभा में जायेंगे। हम राजनीति में शुचिता और नैतिकता की वकालत करते हैं।

"To get the latest news update download the app"