Online Class में 9वीं के छात्र ने महिला टीचर को दिखाए प्राइवेट पार्ट, फिर हुआ कुछ ऐसा..

पूरे मामले में महिला शिक्षक ने यह साबित कर दिया कि गुरु गुरु होता है ।

मुंबई, डेस्क रिपोर्ट। ऑनलाइन कोडिंग क्लास (online coding class) के दौरान महिला टीचर (female eacher) को प्राइवेट पार्ट (private part) दिखाना एक स्टूडेंट को भारी पड़ गया। हालांकि आरोपी छात्र ने खुद को बचाने का भरसक प्रयास किया लेकिन टीचर की समझदारी के सामने वो पुलिस हिरासत (arrest) से बच नही पाया। हैरान करने वाली बात यह है कि आरोपी छात्र सैन्य अधिकारी का बेटा है।

9वी कक्षा का यह छात्र ऑनलाइन कोडिंग क्लास का स्टूडेंट था और इसने 15 फरवरी से 02 मार्च के बीच जब ई कोडिंग (E-Coding) क्लास जॉइन की। तब इस दौरान उसने ऑनलाइन क्लास के दौरान ही महिला टीचर को प्राइवेट पार्ट दिखाया। इस छात्र की लगातर बढ़ती इन हरकतों से टीचर परेशान हो गई और उसने ऑनलाइन क्लासेस बंद करने की सोची।

लेकिन फिर अचानक महिला टीचर ने बजाए क्लास बंद करने के आरोपी छात्र को इस हरकत की सज़ा दिलाने की सोची और इस मामले की शिकायत मुम्बई के साकीनाका पुलिस थाने में दर्ज करवा दी। जांच में पता चला कि आरोपी छात्र राजस्थान में है। जिसके बाद राजस्थान पुलिस भेजी गई। हालांकि ई कोडिंग क्लास मोबाइल नम्बर और ईमेल आई डी के साथ स्टूडेंट क्लास जॉइन करते है। जिसकी वजह से आरोपी छात्र ने लगातार पुलिस को झांसा दिया और अपनी लोकेशंस चेंज की ।कई प्रयासों के बावजूद भी पुलिस छात्र को पकड़ नही पाई।

Read More: Supreme Court में बोली सरकार- नहीं दे सकते कोरोना मृतकों के परिजनों को मुआवजे की राशि

छात्र की विकृत मानसिकता का पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसके खिलाफ पुलिस शिकायत और उसकी तलाश की खबर होने के बावजूद उसने फिर 30 मई को ऑनलाइन क्लास में प्रेजेंट होकर महिला टीचर के साथ वही हरकत की ।इस बार पुलिस ने तेज़ी दिखाई और उसकी लोकेशन ट्रेस कर उसे जैसलमेर से हिरासत में ले लिया।पुलिस जांच में सामने आया की छात्र कम्प्यूटर के मामले में काफी तेज़ था और इसी का फायदा उठाते हुए उसने अपने लैपटॉप में आईपी एड्रेस को इस तरह सेट किया ताकि कोई उसे ट्रेक न कर सके।

इस पूरे मामले में महिला शिक्षक ने यह साबित कर दिया कि गुरु गुरु होता है ।दरअसल कोडिंग क्लास में छात्र अपना चेहरा नही आने देता था इसी वजह से उसकी पहचान चेहरे से नही हो पा रही थी लेकिन उसकी हरकत के दौरान टीचर ने बैकग्राउंड का स्क्रीनशॉट ले लिया था ।पुलिस को इस तस्वीर से जांच में सबसे ज्यादा मदद मिली।