रतलाम, सुशील खरे। कोविड-19 (COVID-19) की दूसरी लहर के पश्चात अब रतलाम पूरी तरह से अनलॉक हो चुका है। शॉपिंग माल से लेकर सभी बाजार प्रतिष्ठान खुल गए हैं। सिर्फ सिनेमाघर तथा स्कूल कॉलेज और धार्मिक आयोजन, राजनीतिक सभा आदि पर प्रतिबंध है। बाजार खुलने के पश्चात आए दिन बाजार में भारी भीड़ देखने को नजर आ रही है। लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन पूरी तरह से भूल चुके हैं। लॉकडाउन के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कत छोटे-मोटे व्यापार करने वाले लोगों को हुई थी। और अभी भी उनकी दिक्कतें कम नहीं हो रही है। कुछ ऐसा ही नजारा रतलाम (Ratlam) के फव्वारा चौक पर देखने को मिला। जहां ठेला लगाकर फल बेचने वाले लोगों पर नगर निगम का अमला चालानी कार्रवाई करने के लिए पहुंच गया। जिसके बाद गुस्साए फल विक्रेताओं ने फल सड़कों पर फेंक दिए। और आत्महत्या करने की धमकी तक दे डाली।

यह भी पढ़ें…पहली बारिश ने खोली रतलाम नगर निगम की पोल, खुले नाले में फंसी गाय, मुस्लिम लोगों ने बचाया, देखें VIDEO

फल विक्रेताओं का कहना है कि उनको कहा गया कि वह खुले में ना होकर गली आदि में जाकर अपने फल विक्रय करें। जबकि जिला प्रशासन ने उन्हें अनुमति दी है। और वह घूम-घूम कर फल का विक्रय कर सकते हैं। पर उसके बाद भी नगर निगम द्वारा चालानी कार्रवाई की जा रही है। जिससे फल विक्रेता नाराज हो गए तथा महिलाओं का आक्रोश फूट पड़ा। और उनके द्वारा नगर निगम अधिकारियों को खरी-खोटी सुनाई गई। वहीं स्पष्ट चेतावनी दी गई कि यदि इसी प्रकार उन्हें परेशान किया गया तो वह आत्महत्या कर लेंगे। और उसकी जिम्मेदारी नगर निगम प्रशासन की होगी। इस दौरान आक्रोशित फल विक्रेताओं के द्वारा अपने फल सड़क पर फेंक कर भी आक्रोश व्यक्त किया गया।

https://twitter.com/mpbreakingnews/status/1405563132949372933?s=08