Bhopal: स्कूल खुलते ही 10 छात्र हुए कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप

वहीं संस्थान की क्लास अगले आदेश तक स्थगित कर दी गई है। साथ ही फैकल्टी स्टाफ और बच्चों को 3 दिन के होम आइसोलेशन (Home isolation) में भेज दिया गया।

स्कूल शिक्षा विभाग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhya pradesh) में कोरोना (corona) संक्रमण की रफ्तार भले ही कम हो गई हो लेकिन इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। एक ऐसा ही ताजा मामला राजधानी भोपाल (bhopal) में सामने आया है। जहां शैक्षणिक संस्थान के बंद होने के बावजूद एक विद्यालय में नियमित कक्षाओं के लिए विद्यार्थियों को बुलाया जा रहा था। इसी बीच रविवार को एक छात्र की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव (corona positive) आ गई। जिसके बाद पूरे विद्यालय परिसर में हड़कंप की स्थिति मच है।

दरअसल मध्य प्रदेश सरकार ने शैक्षणिक संस्थानों के बंद होने की बात कही थी। बावजूद इसके नाट्य विद्यालय में नियमित रूप से कक्षाएं संचालित की जा रही थी और विद्यार्थियों को बुलाया जा रहा था। इसी बीच एक विद्यार्थी में कोरोना के लक्षण देखे जाने पर उसकी जांच कराई गई। जहां उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

छात्र की रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही उसके संपर्क में आए हुए छात्र एवं शैक्षणिक स्टाफ की भी जांच की गई। जिसमें संस्थान के 26 छात्रों में से 10 छात्रों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। जिसके बाद सभी विद्यार्थियों को राजधानी के जेके अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं संस्थान की क्लास अगले आदेश तक स्थगित कर दी गई है। साथ ही फैकल्टी स्टाफ और बच्चों को 3 दिन के होम आइसोलेशन (Home isolation) में भेज दिया गया।

Read More: सूअरों के शिकार के लिए बिछाये बिजली के तार में फंसा किसान, करंट लगने से मौत

इस मामले में मध्य प्रदेश नाट्य विद्यालय के अफसरों का कहना है कि रविवार को संस्थान में दाखिला लेने वाले 3 छात्रों को कोरोना के लक्षण दिखने पर उसकी जांच कराई गई। उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही सभी 26 विद्यार्थियों की जांच की गई। जिसमें से 10 पॉजिटिव निकले हैं।

वहीं इस मामले में मध्य प्रदेश नाट्य विद्यालय के निदेशक का कहना है कि उन्होंने कक्षाएं संचालित करने से पहले संस्कृति संचनालय को सूचित किया था। वहां से निर्देश लेने के बाद ही कक्षाएं संचालित की गई थी। बता दें कि राजधानी भोपाल में सोमवार को 168 कोरोना संक्रमित मामले सामने आए हैं। जिनमें से कुछ मरीज को भर्ती कराया गया। वहीं कुछ मरीज होम आइसोलेशन में रहकर इलाज करवा रहे हैं।