Bhopal : सुतली बम से फटा युवक के कान का पर्दा, 5 लोगों की आंखे भी हुई खराब

भोपाल (Bhopal) में प्रशासन ने कई बम पर प्रतिबंध लगा रखा था। इसमें सुतली बम भी शामिल है। इस बार लोगों ने खूब फटाखे फोड़े। कई लोगों ने सुतली बम सबसे ज्यादा फोड़े।

bhopal

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल (Bhopal) में प्रशासन ने कई बम पर प्रतिबंध लगा रखा था। इसमें सुतली बम भी शामिल है। इस बार लोगों ने खूब फटाखे फोड़े। कई लोगों ने सुतली बम सबसे ज्यादा फोड़े। ऐसे में एक युवक के सुतली बम फोड़ने से कान के पर्दे फट गए। इतना ही नहीं 5 लोगों के आँखों की रौशनी भी फटाखों की वजह से चली है।

बताया जा रहा है कि युवक अपने दोस्तों के साथ दिवाली के दिन सुतली बम फोड़ रहा था। ऐसे में जब बम तेजी से फटा तो युवक के कान में पहले सिटी की आवाज आई उसके बाद उससे सुनाई आना बंद हो गया। हालांकि तब उसने इस बात पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया और वो रात में सो गया।

Must Read : मंदसौर में खाई से मिला अधेड़ का 4 दिन पुराना शव, मौत की गुत्थी सुलझाने में जुटी पुलिस

लेकिन उसको सुबह सुनाई नहीं दिया तो वह तुरंत डॉक्टर के पास गया। डॉक्टर ने उस युवक के कान के पर्दे चेक किए तो एक कान का पर्दा फटा हुआ नजर आया। इतना ही नहीं कान के अंदर जख्म भी हो गया। जिसकी वजह से उसके कान की सुनने की क्षमता ख़त्म हो गई। वहीं दिवाली के दिन आतिशबाजी में 5 लोगों की आँखों की रौशनी चली है। इसमें 3 बच्चे शामिल है।

भोपाल में दर्ज किया गया अधिक शोर –

जानकारी के मुताबिक, ये बात सामने आई है कि भोपाल में ध्वनि के निर्धारित मानकों से अधिक शोर दर्ज किया गया है। दरअसल, ध्वनि प्रदुषण की जांच के लिए भोपाल के कई इलाकों में ऑटोमेटिक मॉनीटरिंग स्टेशन लगाए गए थे। जिसमें स्टेशन में ध्वनि प्रदूषण अधिकतम 98.1 डेसिबल दर्ज किया गया। वहीँ रात के वक्त 40 डेसिबल होना चाहिए। आवासीय क्षेत्र में ध्वनि प्रदूषण 95.5 डेसिबल दर्ज किया गया। रात में ये 45 डेसिबल रहना चाहिए था। कमर्शियल क्षेत्र में ध्वनि प्रदूषण 109.6 डेसिबल दर्ज किया। 70 डेसिबल होना चाहिए था।