बीजेपी विधायक का आरोप, प्रशासन जो बता रहा, सच नहीं है

भोपाल डेस्क रिपोर्ट।बीजेपी के सीनियर नेता और पूर्व में मंत्री रह चुके विधायक अजय विश्नोई ने आरोप लगाया है कि प्रशासन कोरोना को लेकर सच्चाई सामने नहीं रख रहा। उन्होंने यह बात शनिवार को जिला क्राइसिस कमेटी की बैठक में कही। मुख्यमंत्री भी इस बैठक में वर्चुअल जुड़े हुए थे।

इंदौर- उज्जैन के बाद मप्र के इन जिलों में भी 19 अप्रैल तक टोटल लॉकडाउन

बीजेपी विधायक अजय विश्नोई ने क्राइसिस कमेटी की बैठक में कहा कि प्रशासन अपना एक बैरोमीटर लेकर चल रहा है जिसे वह सच मान रहा है जबकि सच्चाई यह नहीं है। RTPCR के आंकड़े ही प्रशासन देता है जबकि मरीज या प्राइवेट अस्पताल RTPCR के रिजल्ट का इंतजार नहीं करता। वह रैपिड टेस्ट कराता है और यदि रैपिड टेस्ट में रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो वह ब्लड टेस्ट कराता है और अगर उसमें डी डाइमर बढा हुआ है तो वह सीटी कराता है और उसके तुरंत बाद इलाज चालू करा देता है जिसके कारण प्राइवेट अस्पताल खचाखच भर गए हैं ।सारे आंकड़े प्रशासन के आंकड़ों में आ नहीं रहे।

ग्वालियर में नहीं बढ़ेगा लॉकडाउन, हो सकते हैं यह निर्णय

मौत के आंकड़ों को लेकर भी बीजेपी विधायक अजय विश्नोई ने कहा कि इसको लेकर भी सच्चाई छुपाई जाती है और रोजाना विवाद होता है। प्रशासन मीडिया में जो मौत के आंकड़े देता है और वास्तव में जो मौते होती है, उन में बहुत अंतर है। उन्होंने जबलपुर के चौहानी श्मशान घाट का उल्लेख करते हुए कहा कि कल वहां 14 अंतिम संस्कार हुए जबकि प्रशासन मीडिया में यह जानकारी दे रहा है कि केवल दो लोगों की मौत हुई। उन्होंने प्रशासन से कहा कि यदि आप सच्चाई बताओगे तो लोग डरेंगे और कोरोना से बचने के सभी उपाय करेंगे। उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि मेरे विधानसभा के मझौली क्षेत्र में एक व्यक्ति की कोरोना से मौत हो गई और उससे डर के वहां के लोग मास्क पहनने लगे। उन्होंने प्रशासन से फिर आग्रह किया कि वे सच्चाई से लोगों को रूबरू कराएं।

MP Weather Alert: एक साथ 4 सिस्टम एक्टिव, मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार

बीजेपी विधायकअजय विश्नोई शिवराज सरकार में पहले स्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं और स्वास्थ्य महकमे की अच्छी खासी जानकारी रखते हैं ।ऐसे में उनके इन सुझावों पर प्रशासन कितना अमल करेगा ,यह तो देखने वाली बात है।