दिल्ली के बिल्डर ने लगाया भोपाल के 1000 लोगों को 100 करोड़ का चूना, पुलिस ने किया गिरफ्तार

भोपाल की कोलार पुलिस ने यूनिहोम्स प्रोजेक्ट के बिल्डर सुमित खनेजा को रविवार को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी बिल्डर ने बैरागढ़ चीचली में फ्लैट, दुकान देने का एग्रीमेंट कर करीब एक हजार लोगों से रुपए लिए थे।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  दिल्ली के एक बिल्डर ने मध्य प्रदेश में एक हजार लोगों को चूना लगाया है, दिल्ली के इस बिल्डर ने बड़ी ठगी को अंजाम दिया है, बिल्डर ने भोपाल में 1000 लोगों से 100 करोड़ से ज्यादा की ठगी की। मामला भोपाल में यूनिहोम्स प्रोजेक्ट से जुड़ा है। बिल्डर ने खरीदारों को फ्लैट, दुकान बनाकर पजेशन देने का झांसा दिया था। इसके लिए एडवांस में रुपए भी ले लिए थे। लेकिन खरीदारों को पजेशन नहीं मिला। लोगों को ठगी का पता जब चला जब पजेशन न मिलने पर खरीदार सुमित के भोपाल स्थित आफिस पहुंचे लेकिन सुमित आफिस छोड़कर फरार हो गया था।

भोपाल की कोलार पुलिस ने यूनिहोम्स प्रोजेक्ट के बिल्डर सुमित खनेजा को रविवार को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी बिल्डर ने बैरागढ़ चीचली में फ्लैट, दुकान देने का एग्रीमेंट कर करीब एक हजार लोगों से रुपए लिए थे। इसके बाद फ्लैट व दुकान नहीं देकर फरार हो गया था। वह करीब 4 साल से फरार था। रविवार को पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया। मामले में CBI भी जांच कर रही है।

यह भी पढ़े.. विधायक ने सड़क पर बस ड्राइवर को दी सजा- एसपी को फोन लगाकर कहा टीआई बदल दो

दरअसल सुमित ने यूनिटेक नाम की कंपनी ने 2010 में भोपाल के बैरागढ़ चीचली में 23 एकड़ जमीन पर यूनिहोम्स नाम से अफोर्डेबल हाउसिंग प्रोजेक्ट लॉन्च किया था। कंपनी ने कोलाज ग्रुप के साथ एसवीएस बिल्डकॉन नाम से जॉइंट वेंचर कंपनी बनाई थी। प्रोजेक्ट के तहत 8 टॉवर बनाए जाने थे। कंपनी ने राजधानी में करीब 500 फ्लैट्स के लिए एडवांस लेकर बुकिंग की थी। 2-BHK के लिए 26 लाख 31 हजार और 3-BHK के लिए 35 लाख 89 हजार रुपए के हिसाब से अनुबंध किया। कार पार्किंग के 1.25 लाख और फ्लोर के हिसाब से 35 हजार से 1.10 लाख रुपए एक्स्ट्रा चार्ज लिया गया। बिजली कनेक्शन इंस्टॉलेशन के लिए 50 हजार और 20 हजार रुपए मेंटेनेंस चार्ज भी लिया था।

सुमित ने लोगों को ठगा है इस बात का एहसास लोगों को तब हुआ जब उन्हे पजेशन नहीं मिले, लोगों ने जब सुमित से मिलने की कोशिश की तो पता चला की सुमित अपना आफिस बंद कर दिल्ली भाग गया है,जिसके बाद लोग मंत्री नरोत्तम मिश्रा के पास पहुंचे और उन्हे इस मामले की जानकारी दी, हालांकि जानकारी मिलने के बाद पुलिस को मामला दर्ज करने के निरदेस दिए गए। फिलहाल सुमित की गिरफ़्तारी की खबर मिलते ही बड़ी संख्या में लोग कोर्ट पहुँच गए। फिलहाल पुलिस कोरोना के चलते सुमित को रिमांड पर नहीं लेगी। उसे जेल भेज दिया गया है।