केन्द्र की रिपोर्ट में रेड जोन में ग्वालियर, चिंता में जनता, आश्चर्य में प्रशासन

ग्वालियर ।अतुल सक्सेना।

शुक्रवार को केंद्र सरकार(central government) की तरफ से दो आदेश आये एक आदेश के में लॉकडाउन(lockdown) बढ़ाकर 17 मई तक करने की बात है तो दूसरे आदेश में देश के रेड(red), ओरेंज(orange) और ग्रीन(green) जोन के जिलों की सूची है। इसमें मध्यप्रदेश(madhyapradesh) के जिलों का भी नाम है और इसमें ग्वालियर(gwalior) का नाम आने पर प्रशासन अचंभित हैं और शहर के लोगों के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने शुक्रवार को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन वाले जिलों की सूची जारी कर दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश के 130 जिले रेड जोन में 284 जिले ओरेंज जोन में और के 319 जिले ग्रीन जोन में है। इस सूची में मध्यप्रदेश के 9 जिले रेड जोन में 19 जिले ओरेंज जोन में और 24 जिले ग्रीन जोन में दर्शाये गए हैं। इस सूची में प्रदेश के जिन जिलों को रेड जोन में रखा गया है उनमें इंदौर, भोपाल, उज्जैन, धार, जबलपुर, बड़वानी, पश्चिमी निमाड़,देवास और ग्वालियर शामिल है ।

ग्वालियर का नाम आने पर प्रशासन अचंभित और शहरवासी चिंतित

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की सूची में ग्वालियर को रेड जोन में दर्शाए जाने से असमंजस के हालात बन गए हैं । प्रशासन इसे लेकर अचंभित है और शहर के लोग चिंता में पड़ गए हैं। गौरतलब है कि ग्वालियर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या यानि पॉजिटिव मरीजों की संख्या दस से कम है अतः उसको रेड ज़ोन में कैसे शामिल किया गया यह किसी के भी समझ में नहीं आया । हालांकि मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि ये रिपोर्ट पिछले 21 दिनों में राज्य सरकारों से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर बनाई गई है। और इसे सात दिन या उससे पहले भी राज्य सरकारों से मिलने वाले आंकड़ों के हिसाब से संशोधित किया जायेगा।

CMHO का दावा गलती से ग्वालियर का नाम रेड जोन में आया है, सुधार हो जायेगा

ग्वालियर जिले का नाम रेड जोन में आने के बाद जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एस के वर्मा का कहना है कि ग्वालियर का नाम गलती रेड जोन में शामिल हो गया है इसके लिए भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय से आग्रह किया गया है कि वह इस गलती को सुधारें क्योंकि ग्वालियर में अभी तक कुल 9 कोरोना संक्रमित मरीज पाए गए हैं इनमें से छह स्वस्थ हो चुके हैं जबकि अन्य का इलाज चल रहा है वहीं भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार 10 से ऊपर कोरोना संक्रमित आने पर उस जिले को रेड जोन की श्रेणी में रखा जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here